Skip to main content

आओ मनाएं संविधान दिवस



पूरे देश में  संविधान दिवस मनाया जा रहा है। सभी वर्ग के लोग संविधान के निर्माण दिवस पर अनेकों ने कार्यक्रम करके संविधान दिवस को मनाया गया। राजनीतिक पार्टियों ने बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की चित्र पर माल्यार्पण कर संगोष्ठी कर के संविधान की चर्चा करके इस दिवस को गौरवमयी बनाने का का प्रयास किया गया। प्रशासनिक स्तर हो या  फिर विद्यालयों में बच्चों द्वारा शपथ दिलाकर निबंध लेखन चित्रण जैसी प्रतियोगिताएं करके दिवस को मनाया गया। बताते चलें कि 26 नवंबर 1949 को भारत के संविधान मसौदे को अपनाया गया था और संविधान लागू 26 जनवरी 1950 को हुआ था। संविधान सभा में बनाने वाले 207 सदस्य थे इस संविधान सभा की ड्राफ्टिंग कमेटी के अध्यक्ष डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी थे। इसलिए इन्हें भारत का संविधान निर्माता भी कहा जाता है । विश्व के सबसे बड़े संविधान को बनाने में 2 साल 11 महीने और 17 दिन का समय लगा था। भारत के संविधान का मसौदा तैयार करने के लिए 29 अगस्त 1947 को समिति की स्थापना हुई थी । जिसकी अध्यक्षता डॉ भीमराव अंबेडकर के नेतृत्व में समिति गठित गठित की गई थी । 19 नवंबर 2015 को राजपत्र अधिसूचना के सहायता से इस दिन को यानी कि 26 नवंबर को संविधान दिवस के रूप में घोषित किया गया था। संविधान को याद करने व भावी पीढ़ी को इस विषय पर जानकारी देना व संगोष्ठी के माध्यम से युवाओं के विचारों का आदान प्रदान कर लोकतंत्र को और मजबूत करने का मार्ग है। आज पूरे देश में इस महापर्व को मनाया गया ,वहीं दूसरी तरफ संविधान दिवस के अवसर पर भी महाराष्ट्र में राजनीतिक दल लोकतंत्र  को कुर्सी की खातिर लहूलुहान किया जा रहा है। भाजपा , कांग्रेस ,शिवसेना व एनसीपी  द्वारा सरकार बनाने के लिए जोड़-तोड़ की राजनीति जा रही है। व्यवस्थापिका का मामला देश की सबसे बड़ी अदालत में  भी पहुंच गया ।  जनता द्वारा दिये गये फैसले को पलटने का कार्य देश के राजनीतिक दल कर रहे हैं। संविधान का नुमाइंदे के रूप में आसीन राज्यपाल तक को अनर्गल बयानबाजी कर के अपमानित करने का कार्य किया जा रहा है। पूर्व राज्यपाल कोहली का कहना है कि राज्यपाल किसी एक पार्टी का नही लोकतंत्र में संबैधानिक व्यक्ति है । जोकि संविधान के दायरे में ही रह कर कार्य करता है,और अनुपालन कराता है। सुप्रीम कोर्ट में महाराष्ट्र के मामले में जिस प्रकार राज्यपाल को दोषी ठहराने का कुचक्र रचा गया बहुत ही निन्दनीय रहा। लेकिन जस्टिस खन्ना  इस दलील को खारिज करते हुए कहा कि राज्यपाल का अपना कार्यक्षेत्र है ,जिसमें दखल नही दिया जा सकता है। राजनीतिक दलों के नेताओं का हाल ही निराला है निराला है । अपने चंद स्वार्थों के लिए राज्यपाल जैसे संवैधानिक पदों को कटघरे में खड़ा करने करने खड़ा करने करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते हैं । आखिर हम किस काम के लिए संविधान की शपथ खाते हैं कि संविधान की रक्षा करेंगे और उनके नियमों और कर्तव्यों का पालन करेंगे। लेकिन होता है ठीक इसके उलट ।  संवैधानिक मर्यादाओं को अपने लाभ के लिए सत्ता दल हो या विपक्ष दल के नेता तार-तार करने से नहीं चूकते हैं । जहां एक तरफ हम संविधान को  आदर्श मानते हैं , देश को एकता में पिरोने का काम  किया जाता है । वहीं दूसरी  तरफ संविधान के नियम पालन मखौल उड़ाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते हैं । विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में विश्व के सबसे बड़े हस्तलिखित संविधान का निर्माण हुआ था। जोकि हर देशवासी के लिए गौरव की बात है । लेकिन आज का संविधान दिवस कुछ खास ही था चट मंगनी पट ब्याह की तर्ज पर महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री बनाया गया और तीसरे ही  दिन बहुमत से पहले ही इस्तीफा देना अलग ही इतिहास बना। वहीं विपक्षी दल शिवसेना एनसीपी एवं कॉन्ग्रेस द्वारा सरकार बनाने की जद्दोजहद में जुट गये । इन तीन दलों के गठबंधन का अलग-अलग विचारधारा होने के बावजूद सरकार बनाना एक अनोखी पहल है। ये बेमेल गठबंधन लोकतंत्र के लिए कितना मुफीद होगा आने वाले समय में पता चल जायेगा।  हाल वर्ष में  जिस प्रकार सरकार बनाने के लिए राजनीतिक दल कवायद शुरू किए हैं । यह संविधान से परिपूर्ण लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत नहीं है। गोवा, कर्नाटक  और अब महाराष्ट्र जिस प्रकार खेल चल रहा है कि राज्यपाल को मोहरा बनाया जा रहा है बहुत ही दुखद है । इन बिंदुओं से  यह सवाल उठता है कि क्या हम संविधान दिवस के दिन भी संविधान में लिखी हुई धाराओं व अनुच्छेदों का अनुपालन की शपथ लेने के बाद उसका सम्मान करते रहेंगे।फिलहाल आइये हम सभी लोकतंत्र के इस महापर्व दिवस पर अपने प्रति समर्पण भाव के साथ नियमों व कर्तव्यों का पालन कर लोकतांत्रिक प्रक्रिया को मजबूत करने में सहयोग करें।
@NEERAJ SINGH

Comments

Popular posts from this blog

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…