Skip to main content

बापू के सपनों का भारत बना सियासी अखाडा


देश में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी 150वीं जयन्ती धूमधाम से मनाई जा रही है। देश के हर कोने में राष्ट्र बापू को याद किया गया। ऐसे ही नही आज बापू को राष्ट्रपिता का दर्जा मिला है। उनके सत्य,अहिंसा,ईमानदारी व आदर्शों की देश ही नही दुनिया कायल थी। देश की आजादी दिलाने में उनके कर्तव्यों को न भुलाने के और जनता को पुत्र समान प्यार देने के वाले बापू को राष्ट्र पिता का दर्जा मिला । हर वर्ष 02 अक्टूबर पर उनकी जयंती सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों में धूमधाम से मनाई जाती है। इस वर्ष 02 अक्टूबर की विशेषता 150वीं वर्षगांठ होना था। जिसे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने स्वच्छता वर्ष के रूप में मना कर बापू को श्रद्धांजलि दी।प्रधानमंत्री मोदी के अनुसार 60 करोड़ की आबादी तक शौचालय की सुविधा दी गई। जिसे बापू के सपनों को साकार करने का कार्य किया गया है। आज के दिन देश दो महापुरुषों की जयंती मनाता है , पहला राष्ट्रपिता महात्मा गांधी दूसरे पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर बहादुर शास्त्री का जन्मदिन 02 अक्टूबर को ही हुआ था। अब हम बात करते हैं इन महापुरुषों के सिद्धांतों व उनके मूल्यों पर चलने वाले देश में कितने राजनेता बचे हैं जो उनके पद चिन्हों पर चलकर देश का भला कर रहे हैं। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को लेकर हमेशा ही विद्वानों ने अपने अलग-अलग विचार रखें हैं। लेकिन गांधी जी के विचारों से सहमत होने वालों की संख्या का बहुमत आज भी है ।गांधी जी की हत्या की जब भी चर्चा होती है कांग्रेस हमेशा नाथूराम गोडसे को आरएसएस का कार्यकर्ता ही बताते हैं वही r.s.s. इस बात का खंडन करती है कि नाथूराम गोडसे का आर एस एस से कोई दूर दूर तक नाता नहीं था । एक बात तो सत्य है कि आर एस एस के विचार गांधी के विचारों से जरूर भिन्नता पाई जाती है। लेकिन इसका खुलकर आर एस एस ने भी कभी अपने विचार नहीं रखे । 70 सालों तक राज करने वाली कांग्रेस हमेशा ही कहा करती है कि स्वयंसेवक संघ बापू को कभी भी राष्ट्रपिता नहीं मानती है। इस बात की पुष्टि कहीं ना कहीं भाजपा के संस्थापक पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई के विचार करते थे। उनका मानना था कि राष्ट्र का पुत्र हो सकता है पिता नही । यह विचार स्पष्ट करते हैं कि गांधी जी की विचारधारा से आरएसएस तालमेल नही खाती थी। अनेक विद्वानों का मानना है कि देश के विभाजन के समय और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का मौन धारण कर लेना और अपने पुत्र समान दोनों नेताओं नेहरू और जिन्ना को बंटवारे की जिद करने से रोकने में उनकी असमर्थता उनकी असफलता दर्शाती है। विभाजन का जिम्मेदार भी मानते है । सत्य है कि दुनिया आज भी उनके आदर्शों मूल्यों सत्य निष्ठा के लिए जानती है और उनका सम्मान करती है । लेकिन भारत में सियासतदानों ने गांधीजी के नाम को सियासी हथियार बनाकर रख दिया है। और उनके आदर्शों व मूल्यों को भाषणों तक सीमित कर दिया है। कांग्रेस ने आजादी के बाद से गाँधी शब्द व उनको अपना मानकर अपनी बपौती समझ कर दशकों तक राज किया। लेकिन उन्हें इस बात का गुमान नही था कि एक दिन इसी बपौती को दूसरा दल छीन लेगा। बापूजी तो देश के सर्वमान्य महापुरुष हैं। अपना आदर्श मानते हैं।उनके आदर्श विचार व सत्याग्रह देश की धरोहर के समान है। ये किसी एक दल के महापुरुष नहीं सारी दुनिया के हैं। ये सत्य है कि गांधी जी के बिचारों की प्रासंगिकता आज भी है।उनके अनमोल बिचारों को समझने के लिए आज की युवा पीढी आतुर रहती है। अब बात करें भाजपा नेताओं की जो कि गांधी की बिचारधारा के सच्चे अनुवाई होने का दम्भ भर रहे हैं।जबकि ये जगजाहिर है पार्टी की विचारधारा स्वयं सेवक संघ से पे्ररित है। यही बात गांधी के बिचारों की प्रासंगिकता दर्षा रही है कि वर्तमान की सियासत में कितना महत्वपूर्ण है। गांधी जी के स्वच्छ भारत के सपनों को पूर्ण करने के लिए स्वच्छ भारत अभियान को जोर षोर से चला रही है। वहीं गांधी जी के विचारों को तिलांजलि देकर कांग्रेस गांधी परिवार को असली गांधी मानने की भूलकर आज भारतीय राजनीति के हांसिये पर आकर खडी हो गई। इन्ही कमियों को लपकते हुए भाजपा ने जोरदार वापसी किया। गांधी जी के सत्याग्रह के मूल में बहुत सारे सिद्धांतों व विचारों के दर्षन का समावेष मिलता है। इनके मूल में जाने पर सत्य, अहिंसा, अस्तेय,अपरिग्रह,श्रम , सादगी एवं नैतिकता के दर्षन होंगे। अगर गांधी जी के सत्याग्रह का अर्थ समझने की कोषिष करते हैं ,तब हमें अन्याय,अत्याचार, भ्रष्टाचार , उत्पीडन व ष्षोषण करने वाली व्यवस्थाओं के खिलाफ असहयोग व जनान्दोलन करना ही सत्याग्रह का मूल अर्थ है। कहने का अर्थ है कि सही रूप् से अगर हम सत्य पर अडिग रहते हैं तो निरंकुष व अहितकारी राजा व उसकी सरकार को उखाड कर फेंक नई लोक कल्याणकारी राजा व उसके ष्षासन की स्थापना कर सकते हैं। गांधी के आज के भारत में आज भ्रष्टाचार का बोलबाला हो गया है। अराजकता का माहौल है,गांधी के आर्दषों की बाते खूब होती हैं,लेकिन क्या क्रियावयन हो पाता है ये आज के सामाजिक व सियासी माहौल में एक बडा सवाल बन कर उभर रहा है! गांधी जी की जयंती हर वर्ष मनाते हैं पर देष में उनके आर्दषों नीतियों पर कितने लोग चल रहे हैं। ये भी समझना बहुत आवष्यक है। अगर उनके दार्षनिक विचारों का अध्ययन व मनन करेंगे,अनुपालन करते हैं तभी देष की तस्वीर बदेलेगी और गांधी के सपनों का भारत बनकर तैयार होगा। और तभी इन महापुरूषों की जयंती मनाना सार्थक होगा। @NEERAJ SINGH

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…