Skip to main content

इतिहास के पन्नों में दफ्न थी दो भाइयों की अमर कहानी


गुलामी की जंजीर से जकड़े भारत को दासता से मुक्ति दिलाने के लिए स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने अपना सर्वस्व लुटाया। ब्रिटिश शासन काल में भारतीय जनमानस पर हो रहे क्रूर अत्याचार के खिलाफ छिड़ी जंग में क्षेत्र के अनेकों ऐसे वीर योद्धा शामिल रहे जिनकी दास्तान इतिहास के पन्नों में भी जगह नही बना पाए।जिसके पीछे मुख्य कारण ये स्वयं अपने परिजनों से बिछुड़ गए तो समाज क्या परिवार भी इनके हाल व अंजाम से अंजान ही हो गया । इन देश भक्त स्वतंत्रता संग्राम के अमर सेनानियों के परिवार की भी हालात और दशा इतनी खराब हो गयी कि समाज की मुख्य धारा से किनारे हो गए । मुसाफिरखाना क्षेत्र के नेवादा गॉव के ऐसे दो जांबाज देशभक्त भाई थे ।लल्लू सिंह व संकठा सिंह।इन दो सगे भाइयों में बड़े भाई लल्लू सिंह को देश के लिए शहीद होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ जबकि छोटे भाई संकठा सिंह नेताजी सुभाषचंद्र बोस की आजाद हिंद फौज की ओर से स्वाधीनता आंदोलन की जंग लड़ते हुए ब्रिटिश हुकूमत के द्वारा गिरफ्तार कर लिए गए थे।नेवादा गॉव के निवासी ये देशभक्त सगे भाई स्वनाम धन्य पिता महादेव सिंह के पुत्र थे । साधारण ग्रामीण परिवेश में पले बढ़े दोनों भाइयों को शुरू से ही व्यायाम शिकार आदि में अच्छी खासी रूचि थी ।राजपूत परिवार से ताल्लुक रखने के कारण क्षेत्र युवाओं की फ़ौज में भर्ती होने की रुचि ने इन्हें भी सेना में भरती होने के लिए प्रेरित किया ।दोनों भाइयों की उम्र में भी काफी फर्क था ।लल्लू सिंह संकठा सिंह से उम्र में दस साल बढ़े थे ।इसी कारण लल्लू सिंह पहले फ़ौज में भर्ती हुए थे ।ब्रिटिश सरकार ने उन्हें ड्यूटी के लिए हांगकांग भेज दिया दूसरी तरफ छोटे भाई संकठा सिंह भी कहाँ पीछे रहने वाले थे।25 जनवरी 1931 को संकठा सिंह भी ब्रिटिश फ़ौज में भर्ती हो गए ।दोनों सगे भाई उन दिनों स्वाधीनता संग्राम के संघर्ष से प्रभावित हुए।पहले लल्लू सिंह ने आजाद हिंद फौज की सदस्यता ग्रहण कर स्वाधीनता आंदोलन में कूदे।सन 1942 में छोटे भाई संकठा भी कहाँ पीछे रहते और ये भी आजाद हिंद फौज में शामिल हो गए ।बड़े भाई लल्लू सिंह देश के लिए शहादत में भी आगे रहे और हांगकांग में रिइनफोर्समेंट यूनिट की ओर से लड़ते हुए वीर गति को प्राप्त हुए दूसरी तरफ संकठा सिंह भी हांगकांग भेज दिए गए ।लल्लू सिंह की शहादत से स्वयं उनका पैतृक गांव नेवादा भी लगभग अंजान ही है । बड़े भाई की शहादत ने छोटे भाई को और भी गौरवान्वित कर दिया और संकठा सिंह भी दूने उत्साह से जंगे आजादी में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने लगे।इसी बीच सन 1945 में संकठा सिंह भी फिरंगियों की फ़ौज द्वारा गिरफ्तार कर लिए गए जिन्हें ब्रिटिश सरकार ने हिंदुस्तान वापस भेज दिया।मद्रास में संकठा सिंह जिगरगच्छ कैंप लाएं गए ।कई वर्षों तक उन्हें मिलेट्री की कैद में रखा गया ।16 मार्च 1946 को संकठा सिंह को फतेहगढ़ से डिस्चार्ज कर दिया गया ।आजादी के बाद काफी दिनों तक अपने गॉव नेवादा में आकर रहे । वर्तमान समय में दोनों भाइयों के सगे भाई बजरंग सिंह का परिवार अपने पैतृक गांव में ही रह रहा है ।बजरंग सिंह के दो पुत्र क्रमशः जश करन सिंह व बृज करन सिंह खेती बाड़ी कर जीवन यापन कर रहे है ।बृज करन सिंह की कहना है कि उन्हें इस बात का गर्व महसूस होता है कि उनका परिवार देश के लिए कुर्बान हुआ है ।लेकिन उन्हें इस बात का मलाल भी रहता है उनका परिवार जिस सम्मान का हकदार है प्रशासन ऐसे कार्यक्रमों में परिजनों को आमंत्रित तक नही करता है ।बीते 15 मार्च को बृज करन सिंह ने जिलाधिकारी डॉ राम मनोहर मिश्र से इस सम्बन्ध में मुलाकात कर पत्र सौंपते हुए सम्बन्धित जानकारी को देने की मांग की थी। जिस पर अब तक कोई सकारात्मक जबाब नही मिला है ।उन्होंने बताया कि वे शीघ्र ही जिलाधिकारी से मिलकर प्रकरण से अवगत कराया जाएगा और यथोचित सम्मान दिलाने की माँग करेंगे । @NEERAJ SINGH

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…