Skip to main content

‌आग से आग तक का सफ़र .......आर0के0स्टूडियो




‌जाने कहाँ गए वो दिन, कहते थे तेरी राह में नज़रों को हम बिछाएंगे चाहे कहीं भी तुम रहो, चाहेंगे तुमको उम्र भर तुमको ना भूल पाएंगे जाने कहाँ गए वो दिन ...जी हाँ ये पंक्तियाँ देश के सबसे बड़े शोमैन स्व0 राजकपूर की फ़िल्म मेरा नाम जोकर के गाने की हैं। जिनके हर शब्द आज के समय में माकूल बैठ रहा है। कभी मुम्बई की फिल्मसिटी का सिरमौर रहा आर0के0 स्टूडियो अब बिकने के कगार पर है। उसकी दीवारें गुजरे ज़माने को याद कर रही हैं। सच भी है जब इस इमारत में नए कलाकारों की किस्मत लिखी जाती थी ,उनका भविष्य तय होता था उस ज़माने में आर0के0 स्टूडियो की बादशाहत हुआ करती थी। लेकिन आग से शुरू और आग पर ही ख़त्म हो रही इस स्टूडियो की कहानी। अभिनेता स्व0 राजकपूर द्वारा 1951 में स्थापित आर0के0 स्टूडियो ने अपने 70 साल के सफर में बहुत सी यादों को समेटे हुए हैं। राजकपूर अभिनेता के साथ साथ प्रोडूसर डायरेक्टर भी रहे ।इनकी फिल्मों में विविधता के साथ सामाजिक सरोकार भरी होती थी। जीवन के अनेक करेक्टर को उन्होंने अपने अभिनय से जीवंत किया है ।इसलिए इन्हें फ़िल्म इंडस्ट्री का सबसे बड़ा शोमैन भी कहा जाता था। उनकी पहली फिल्म आग थी जिसमें डायरेक्शन भी किया था। वह भी मात्र 22-23 साल उम्र में यह करिश्मा कर दिखाया । उनके मन में आग फ़िल्म की सफलता से सपना जगा कि उनका भी अपना स्टूडियो हो और उन्होंने इस सपने को पूरा भी किया।
Raj Kapoor
(1924-88)

1951 में पहली फिल्म आवारा का निर्माण किया, जिसका गीत मैं आवारा हूं, हर गर्दिशों का तारा हूं , ने भारत ही नहीं विदेशों में भी धूम मचा दी ।  फ़िल्म बूट पोलिश का गाना मेरा जूता है जापानी, पतलून इंग्लिशतानी ,सर पर लाल टोपी ,फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी , ने तो चीन,जापान, अमेरिका हो या फिर रूस हर तरफ धमाल और इनके  अभिनय की धूम थी। उसके बाद आर के स्टूडियो में फिल्मों का निर्माण शुरू हो गया जो कि 70 सालों तक जारी रहा। जिस देश में गंगा बहती है , मेरा नाम जोकर,बॉबी, राम तेरी गंगा मैली हो गई,प्रेमरोग,से लेकर हिना व आ अब लौट चलें जैसे फिल्मों का 90% शूटिंग इसी स्टूडियो में हुई। राजकपूर ने अपने बेटों रणधीर कपूर , राजीव कपूर, ऋषि कपूर सहित न जाने कितने हीरो व हीरोइन को  आर0के0 स्टूडियो से ही फिल्मों में लांच कराया था। लोगों की यादें इससे जुडी हुई हैं। मुंबई के चिम्बूर इलाके में दो एकड़ में फैले इस स्टूडियो ने हिंदी फ़िल्म इतिहास में जाने कितनी इबारत लिख चुका है,जुबां से बयां करना नामुमकिन है। यहाँ की होली मशहूर थी, जो आता था बिना रंग में रंगे जाने नही पाता था। आर0के0 स्टूडियो की पार्टी में भाग लेना फ़िल्म इंडस्ट्री के कलाकारों के लिए गौरव की बात हुआ करती थी। राजकपूर के ठहाकों से गूंजने वाला ये स्टूडियो 1988 में उनकी मौत के बाद जैसे स्टूडियो ही बीमार हो चला और परिसर की हलचल थमने लगी । 1998 में आ अब लौट चलें फ़िल्म की शूटिंग ख़त्म होने बाद होम प्रोडक्शन की आखिरी फ़िल्म साबित हुई ।अब स्टूडियो के खर्च निकलना भी मुश्किल होने लगा। यदा कदा सीरियल आदि की शूटिंग होती रही । लेकिन रख रखाव का खर्च भी नही आ रहा था।

करीब 20 वर्ष से कपूर खानदान की उपेक्षा का शिकार भी हो रहा है। ऐसा नही था कि कपूर खानदान फिल्मों से नाता तोड़ चुका है। आज भी इस खानदान के लोग सक्रिय हैं। ऋषि कपूर, रणबीर कपूर, करिश्मा, करीना सहित कई नाम हैं जो कि किसी न किसी रूप में फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़े हैं। ये लोग इस खानदानी स्टूडियो को बेचने से रोक सकते हैं। इतना ही नही राजकपूर की फिल्मों से आज भी मिलने वाली रॉयल्टी करोड़ों में है। करीब 10 करोड़ रुपये रायल्टी परिवार के छः सदस्य क्र बीच बंटती है। अगर इसे मिलकर स्टूडियो पर खर्च किया जाय तो इसका स्वरूप कुछ और हो, साथ ही राजकपूर जी के इस सपने को बेंचने से रोका जा सकता है। यही नही पारिवारिक सदस्यों की भी यादें इससे जुडी हुई हैं। ऋषि कपूर का कहना है कि यहीं से मेरे कैरियर की शुरुआत हुई थी। 2017 में आर0के0 स्टूडियो में भयंकर आग लग गई। एक बड़ा हिस्सा और बहुत सारे जरूरत के सामान जल गए। इस घटना ने कपूर परिवार को झकझोर कर रख दिया। अब उन्हें लगने लगा कि स्टूडियो बेचने में ही भलाई है। और आखिर में राजकपूर के सपनों के स्टूडियो को बेचने फैसला ले लिया है।  अब इस स्टूडियो की इमारत बड़ी मायूसी के साथ खड़ी राजकपूर के ही फ़िल्म का गाना उन्हें याद कर गुनगुना रही होगी...छोड़ गए बालम ,हाय अकेला छोड़ गये....The End.
‌@NEERAJ SINGH

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…