Skip to main content

आमजन के ज़हन बसा बीजेपी का अहम , बना हार का कारक..!


देश में 10 विधानसभा व 04 लोकसभा उपचुनाव  में बीजेपी को मिली करारी शिकस्त राजनीतिक विश्लेषकों को सोचने पर मजबूर कर रहा है कि 2019 के आम चुनाव से पहले जनता का मोदी सरकार व बीजेपी को बदलाव का  संकेत तो नही हैं। एक बड़ा सवाल उभर कर सामने आ रहा कि कहीं  आमजन के जहन में ये तो नही बस गया है की  बीजेपी की लगातार राज्यों में हुई जीत से पार्टी व उनके नेताओं में  अहम तो नही आ गया है जोकि बीजेपी के हार का कारक बन गया हो । इस चुनाव को इसलिये भी महत्वपूर्ण माना जा रहा था कि अब लोकसभा आम चुनाव होने एक साल से भी कम रह गए हैं। भले ही बीजेपी नेता व उनके प्रवक्ता चिल्ला चिल्ला कर सफाई दे रहे हैं कि उपचुनाव से आम चुनाव अलग होते  हैं।आइए गौर करें तो 2014 में बीजेपी की सरकार प्रचण्ड बहुमत आई।दो वर्ष तो सब कुछ ठीक रहा । लेकिन 2016 से 37 उपचुनाव में से बीजेपी को 31 में हार का मुँह देखना पड़ा , एक सकून 2017 में रहा जब बीजेपी की यूपी में भारी बहुमत की सरकार योगी जी के नेतृत्व में बनी।लेकिन उसके बाद से बीजेपी के लिए कोई अच्छीखबर लेकर नही आयी है। लोकसभा गोरखपुर, फूलपुर, और अब कैराना साथ में नूरपुर विधानसभा में मिली हार ने बीजेपी सांसत में डाल दिया है। इतना ही नही अखिलेश, मायावती व कांग्रेस का एक मंच पर आना और महागठबंधन कर चुनाव लड़ना बीजेपी को सोचने पर मजबूर दिया है।  क्षेत्रीय दलों की पेश बंदी से बीजेपी को उपचुनाव में मिली हार को पचाना पार्टी के लिए मुश्किल है। कर्नाटक में हुए चुनावों में मोदी का पूरी ताकत से चुनाव प्रचार करना उसके बाद भी पार्टी बहुमत से दूर रह जाना मोदी की जिताऊ छबि को नुकसान हुआ है। लोगों के मन में कहीं न कहीं संशय पैदा हो रहा है कि मोदी का विकास मॉडल फेल तो नही हो रहा है! बाई इलेक्शन से बीजेपी की हार के प्रमुख कारक महंगाई, जिसमें पेट्रोलियम के दामों में लगातार बढ़ोतरी होना, गैस, खाद,बिजली के बिलों में बढ़ोतरी, किसानों की उपेक्षा , गन्ना का भुगतान न होना सामने आया है। ये कारण विपक्षी एकता बीजेपी अधिक भारी रहे। अगर बीजेपी को सत्ता में पुनः आना है तो यूपी में बेहतर प्रदर्शन करना होगा,क्योंकि केंद्र की सत्ता का दरवाजा यूपी व बिहार से ही निकलता है। इसलिए किसानों व मध्यम वर्गीय परिवार को ध्यान में रखकर और इन्हें प्रसन्न करना आवश्यक है।

यूपी में बिजली बिल कम करना, किसानों की समस्या का निस्तारण, के साथ ही देश में पेट्रोलियम को जीएसटी के दायरे में लाकर मध्यम वर्गीय परिवार को राहत व बेरोजगारी पर कार्य करने की जरूरत है, वरना 2019 में जीत  बीजेपी के लिए बुरे सपने की तरह साबित होगा।जीत के नशे से निकल कर आमजन को राहत देने की जरूरत है क्योंकि भारत की जनता है ,सब्र कम है, सत्ता पहुंचाने में देर नही लगाते और उतारने में भी देर नही करते। आमजन का कहना भी है कि प्रधानमंत्री मोदी विदेश में भारत का नाम ऊंचा किया है ,सरकार विदेश नीति अच्छी है, विकास हो रहा है आने वाले टाइम में इसका लाभ मिलेगा । लेकिन वर्तमान में इससे तो पेट भरेगा नही हमारी इनकम थोड़ी है तो जरूरत के सामान को सस्ता होना आवश्यक है। इसलिये बीजेपी को 2019 आमचुनाव जीतना है तो कुछ करके  ही जीता जा सकता है। देश अहम से नही चलता है। गरीब अमीर जनता की जरूरतों से ही चलता है।
@NEERAJ SINGH

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…