Skip to main content

चाहे करो जितने जतन , हम नही हैं मिटने वाले.....!



मैं भ्रष्टाचार हूँ , फिर भी शक्तिशाली हूँ,व्यापक हूँ, नस नस में समाया हूँ कहते हैं मुझको सिस्टम। मुझे मिटाने वाले ही खुद तो मिट गए ,लेकिन मुझे नही मिटा सके। ईमानदारी से मेरा मुकाबला रहता है। मेरे बिना हर काम अधूरा रहता है। लोकतांत्रिक देश में एक विशाल वट वृक्ष की तरह होती हैं,जिसकी जड़ें बहुत ही गहरी होती है। जिसका जीता जागता उदाहरण 2G स्पेक्ट्रम मामले देखा जा रहा है। इस घोटाले के चलते आई टी क्षेत्र के हजारों  कर्मचारियों को सर्विस से हाथ धोना पड़ा। अधिकारियों को जेल तक की हवा खानी पड़ी। और दोषी बिना सबूत रिहा हो रहे हैं। इस मामले पर निर्णय  सीबीआई अदालत के जज का कहना है कि सुबह से शाम तक सबूत का इंतजार करता रहता था लेकिन सीबीआई ने दोषियों के खिलाफ कोई ठोस सबूत नही दे पायी । और सबूतों के अभाव में बरी करना पड़ा। जज का ये बयान सीबीआई के कार्यशैली को सवालों के घेरे में खड़ा कर रहा है। विगत सात वर्षों से चल रही सुनवाई के दौरान जब आपको सबूत नही मिला तो किस विना पर केस दायर किया और सुप्रीम कोर्ट ने लाइसेंस रद्द किया गया। भारत में दूरसंचार क्षेत्र में निवेश करने वाली टेलीकॉम कम्पनियों को होने वाले घाटे की भरपाई कौन करेगा। गौरतलब हो कि 2G केस में बुधवार को स्पेशल सीबीआई कोर्ट के आए फैसले ने संयुक्त अरब अमीरात की एतिसलात, नॉर्वे की टेलिनॉर और रूस की सिस्टेमी जैसी उन टेलिकॉम कंपनियों को भारत सरकार के खिलाफ हथियार सौंप दिया जिनके लाइसेंस सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर दिए थे।  जानकारों का कहना है कि ये कंपनियां लाइसेंस आवंटन को खारिज किए जाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले से 2.5 अरब डॉलर (करीब 160 अरब रुपये) के निवेश के नुकसान की भरपाई की मांग भारत सरकार से कर सकती हैं। ये तो बाद की बात है। देश की जनता को इस फैसले ने हिला कर रख दिया है। उनकी इस मान्यता पर एक बार फिर मुहर लग गई कि भ्रष्टाचार करने वाली बड़ी मछलियों को सजा मिलती नही और छोटी मछलियों को बलि का बकरा बनाया जाता है। 01 लाख 76 हजार करोड़ के घोटाले में UPA सरकार के मंत्री ए राजा, डीएमके की राज्यसभा सांसद कनुमोई सहित 17 को अप्रैल 2011 में आरोपी बनाया गया था। दरअसल कोर्ट ने तीन मामलों की सुनवाई की है, जिसमें दो सीबीआई और एक प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का है।
पहले सीबीआई केस में पूर्व केंद्रीय मंत्री ए राजा के अलावा डीएमके के राज्यसभा सांसद कनिमोई, पूर्व टेलीकॉम सचिव सिद्धार्थ बेहुरा, ए. राजा के तत्कालीन निजी सचिव आरके चंदौलिया, स्वान टेलीकॉम के प्रमोटर शाहिद उस्मान बलवा, विनोद गोयनका, यूनिटेक कंपनी के एमडी संजय चंद्रा, कुशेगांव फ्रूटस एंड वेजिटेबल प्राइवेट लिमिटेड के आसिफ बलवा व राजीव अग्रवाल, कलाईगनार टीवी के निदेशक शरद कुमार और सिनेयुग फिल्म्स के करीम मोरानी के अलावा रिलायंस अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप के वरिष्ठ अधिकारी गौतम जोशी, सुरेंद्र पिपारा, हरि नैयर आरोपी हैं। इसके अलावा तीन कंपनियों स्वान टेलीकॉम लिमिटेड, रिलायंस टेलीकॉम लिमिटेड और यूनिटेक वायरलेस (तमिलनाडू) को भी आरोपी बनाया गया था। सीबीआई की इस प्रकार की असफलता कोई नई बात नही है। इससे पूर्व में कई हाईप्रोफाइल मामले में फेल हो चुकी हैं। एक बार तो सीबीआई की कार्यप्रणाली से आहत होकर सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी तल्ख़ टिप्पणी देते हुए कहा कि सीबीआई की हालत पिंजरे में बंद  तोता जैसी है। चर्चित बेफोर्स मामले में 31 मई 2005 को  हिंदुजा बंधुओं श्रीचन्द, गोपी चन्द , प्रकाश चन्द सहित बेफोर्स कंपनी के अधिकारियों को बरी कर दिया था। क्योंकि सीबीआई ने उनके खिलाफ सबूत नही इकट्ठा कर कोर्ट में नही पेश कर सकी। 2G स्पेक्ट्रम मामले के दो अन्य मामले में भी यही हुआ था। देश की सबसे चर्चित मर्डर मिस्ट्री आरुषि-हेमराज हत्याकांड में असिलयत नही खोल सकी । अभी एक दिन पूर्व मुम्बई के आदर्श सोसायटी घोटाला में आरोपी पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चौहाण को भी कोर्ट ने सबूत के अभाव में रिहा कर दिया है। देश की जनता का सीबीआई पर सशंकित होना लाजमी है। हाँ एक राहत भरी बात ये जरूर आई कि देश के जाने माने भ्रष्टाचारी राजनेता लालू प्रसाद यादव को 1100 करोड के चारा घोटाले के एक अन्य मामले में कोर्ट ने पुनः जेल की राह दिखाई है। लेकिन उनके सहयोगी जगन्नाथ मिश्र का बरी होना अवश्य ही चौंकाने वाली बात है। कोर्ट ने लालू के 1990 के बाद बनाई गई सम्पति को भी जब्त करने का भी आदेश दिया। 2G स्पेक्ट्रम घोटाले में केंद्र सरकार का कहना है कि जब केस दायर हुआ था तो उन्ही की सरकार थी और हेरिंग उसी समय की है। अब हम इस फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील करेंगे। कोई भी भ्रष्टाचारी नही बचने पायेगा। जो भी हो भ्रष्टाचार देश के विकास में दीमक की तरह है। इसे ख़त्म करना सरकारों की जिम्मेदारी है। इतना अवश्य ध्यान देने की जरूरत है कि इसके दोषी नीचे स्तर के हों या फिर बड़ी पहुँच वाले हों,सभी को समान  सजा मिलना सुनिश्चित करें। फिलहाल भ्रष्टाचार रूपी पेड़ की जड़े बहुत गहरी हैं। इसके सूखने बहुत समय लगेगा।  इसलिए चाहे करो जितने जतन , हम नही हैं मिटने वाले.... ये लाइनें सटीक बैठ रही हैं।
@NEERAJ SINGH
HAPPY CHRISTMAS DAY

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…