Skip to main content

पद्मावती फिल्म का विरोध-------- सामाजिक आक्रोश !

पद्मावती फिल्म को लेकर आजकल देश भर में आक्रोश व प्रर्दशन देखने को मिल रहा था। पहले तो इस फिल्म से क्षत्रिय व राजा रजवाडे ही विरोध करते हुए दिखे लेकिन अब अनेक हिन्दू संगठन भी सामने आ गये हैं। उनका कहना है हमारे इतिहास व संस्कृति के साथ फिल्म मेकर खिलावाड कर रहे हैं, जिसे बर्दाश्त नही किया जा सकता है। इस बात से अनेक इतिहासकार व प्रबुद्ध वर्ग  का बडा तबका भी  सहमत दिख रहा है। करणी सेना के बैनर तले हजारों की संख्या में लोग देश भर में इस फिल्म के विरोध में लामबंद हो रहे हैं। इसे राजनीतिक रूप भी नेता लोग देने का प्रयास कर रहे हैं। भाजपा के अनेक नेता खुलकर सामने आ गये हैं। वहीं कांग्रेस में इसे लेकर मतभेद है। कांग्रेस के नेता शशि थरूर इसका समर्थन करते दिखे तो ज्योतिरादित सिंधिया खुलकर इस फिल्म का विरोध कर रहे हैं। इस फिल्म में रानी पद्मावती के किरदार को तोड मरोड कर पेश करने की बात की जा रही है। जोकि गौरवशाली व बलिदानी जौहर करने वाली रानी का अपमान माना जा रहा है। जबकि फिल्म मेकर संजय लीला भंसाली व पद्मावती का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री दीपिका पादुकोण का कहना है कि ऐसा कुछ नही है,पहले फिल्म को रिलीज होने दें। बिना फिल्म देखे ही विरोध करना उचित नही हैं। भजपा नेता सुब्रहमन स्वामी ने तो इस फिल्म के निर्माण पर ही सवाल उठाते हुए फिल्म निर्माता पर गंभीर आरोप जड दिये हैं। उनका कहना है कि इसके निर्माण में खाडी देश का पैसा लगा है,इसकी जांच होनी चाहिए।ये तो हुई किसने क्या कहा क्या नहीं। अब जरा विवादित फिल्मों पर भी बात कर लें। बहुत सी ऐसी भी फिल्में है जो बनती तो हैं पर किसी न किसी कारण हम उसे देख नहीं पाते। ऐसी फिल्मों पर सेंसर बोर्ड प्रतिबंध लगा देता है। इन प्रतिबंधित फिल्मों के पीछे कई कारण होता है। अश्लील भाषाए अश्लील दृश्यों के अलावा कई फिल्में धार्मिक कारणोंए लिंग भेदभाव जैसे कई और भी कारण यह विवादों में फंस जाती है। बॉलीवुड की ऐसी ही फिल्मों के बारे में हम आपको बता रहे हैं जो अपने समय में सबसे ज्यादा विवादित रहा। इनमें से कुछ फिल्में अब भी बैन है कुछ को बड़ी मशक्कत के बाद रिलीज हो पाई। इन्ही की कडी कई विवादित फिल्में जिसमें प्रमुख रूप से बैंडेट क्वीन, फायर, वाटर, पिंक मिरर,कामसूत्र, इन्दिरा सरकार, व जोधा अकबर आदि हैं। कुछ ऐसी भी फिल्में हुई जिसे भारत से बाहर लोगों ने खूब सराहा लेकिन इसके बावजूद समाज की रीढ़ पर चोट करती इन फिल्मों के रिलीज होने पर ही सेंसर बोर्ड ने चोट कर दिया।  वर्तमान में एक दिसम्बर को संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती रिलीज होने जा रही है, जोकि रिलीज होने से पूर्व ही विवादों में घिर चुकी है। हो भी क्यों न रानी पद्मनी (पद्मावती) एक असाधारण महिला थी। चित्तौडगढ नरेश रत्नसेन सिंह की पत्नी थी, जब चित्तौडगढ पर मुस्लिम शासक अलाउद्दीन खिलजी ने आक्रमण किया और छः माह तक लडाई चली जिसमें राजा रत्नसेन सिंह मारे गये। उधर रानी पद्मनी (पद्मावती) ने प्रण किया कि वह जान दे देंगी लेकिन समर्पण नही करेंगी। और खिलजी सेना के किले में घुसने से पहले ही रानी पद्मनी (पद्मावती) अपने अस्मत व धर्म की रक्षा करते हुआ हजारों महिलाओं के साथ अग्नि में कूद कर जौहर प्रथा को  अपनाते हुए सती हो गई। विश्व की किसी भी संस्कृति में ऐसी बहादुर नारी द्वारा अपने जान का न्यौछार करने का उदाहरण  नही मिलेगा। ऐसी सतीत्व नारी को फिल्म में नाचते गाते हुए दिखाया जाना कहां तक उचित है। ये नारी का अपमान नही तो और क्या है। फिल्म का विरोध करना कुछ तथाकथित नेता,मीडिया व विद्वान वर्ग इस समाज में भी हैं, जिन्हे अभिव्यक्ति की आजादी व संविधान पर चोट दिख रही है। इन्हे इतिहास, संस्कृति व नारी स्वरूप के साथ छेडछाड मंजूर है। लेकिन जब फारूक अब्दुल्ला, पी चितम्बरम्, व चैनलों पर बैठ कर आतंकियों की पैरवी करने वाले मौलानाओं व जनप्रतिनिधियों के बयान नही सुनायी पडते हैं , तब इन्हे संविधान व अभिव्यक्ति की आजादी की परिभाषा की समझ नही रह जाती है।बहुतों का मानना है कि फिल्मों को विवादित बनाना सफलता की गारटी होती है, ऐसा भी कुछ फिल्मों के साथ हुआ है कि विवाद के बाद वे फिल्में सफल हो गई हैं। इनमें प्रकाश झा व संजय लीला भंसाली का विवादों से गहरा नाता रहा है। मुफ्त की पब्लिसिटी मिलना भी तय रहता है। दर्शकों में भी जिज्ञासा जग जाती है कि आखिर क्या है इस फिल्म में जोकि इसका विरोध रहा है। इन तथाकथित फिल्म मेकरों का उद्देश्य ही यही रहता है कि कुछ ऐसा किया जाय कि हमारी फिल्म बिवादित हो और फिल्म सुपर डूपर हिट हो जाये इन्हे समाज, जाति, धर्म के आहत से कोई मतलब नही रहता है। इन्हे तो सिर्फ पैसा कमाने को सोच रहती है। इनके इस कोशिश को नाकाम करने की जयरत है जिससे दोबारा लोगों की भावनाये आहत कर सकें। यह भी सत्य  भारतीय जन मानस में उठ रहे विरोध से लगता है कि उस बलिदानी नारी की गाथा हिन्दुस्तानियों के दिल में आज भी है। हमें इस फिल्म को मनोरंजन के रूप नही प्रस्तुत होने देना चाहिए क्योंकि ये हमारे देश के व नारी के मान सम्मान का सवाल है। हमारी संस्कृति व गौरवशाली इतिहास को तोड मरोड कर पेश करने वाले इन ना समझ स्वार्थी पैसे के लोभी फिल्म मेकरों के इस दुःसाहस पर लगाम लगनी चाहिए। इसके लिए सरकार को कायदा कानून ऐसा बनाना चाहिए, जिससे कोई भी हमारी संस्कृति व इतिहास के साथ छेडछाड न करने की हिमाकत न सके।

@NEERAJ SINGH

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…