Skip to main content

किशोरों का बाल्यावस्था व प्रौढावस्था के बीच मचलता बचपन


 आज का किशोरावस्था एक नई दिशा व पहचान के लिये उत्सुक  होता है । जिसके चलते इस शारीरिक परिवर्तन काल में मन में तरह-तरह विचार आते रहते हैं । यह उम्र एक अवस्था से दूसरी अवस्था की ओर अग्रसर रहता है । इसलिए इस परिवर्तन काल में अच्छे बुरे की पहचान ही नहीं हो पाती है, और कभी अच्छे कभी गलत कदम उठा लेते हैं जिसके कारण मन में तनाव जैसी स्थिति आ जाती है। किशोरवस्था बुद्धि का विकास पूर्ण नही होता है, फिर भी ये कुछ कर गुजरने की जहमत उठाने में गुरेज नही करते हैं। जिससे अपनी एक पहचान बना सकें और चर्चा में रहें। इनके लिए हर प्रतिस्पर्धा में जीत आवश्यक है। हार इन्हें जरा भी पसंद नही हैं। हार का मतलब सीधे सुसाइड समझते हैं। जबकि हार से ही जीत की शुरुआत होती है,पर कौन इन्हें समझाये। ये अवस्था ही आवेशित, उग्र, आक्रमक होती है।इन्हें प्यार व शांत मन से समझाया जा सकता है। अब किशोरों की लाइफ पहले से काफी बदल चुकी है। ये शिक्षक, महान खिलाड़ी,राजनीतिक , आदि को अपना आदर्श मानते थे। लेकिन अब तो वीडियो गेम में मशगूल रहने वाले किशोरों को गेम में मौजूद कैरेक्टर को अपना हीरो मान रहे हैं।एक नई आर्टिफिशियल माइंड जन्म ले रहा है। जो बच्चों ही नही माँ व बाप के लिए भी घातक सिद्ध हो रहा है। पहले बच्चे गुल्ली डंडे से लेकर न जाने कितने खेल खेलते थे। वहीं अब कंप्यूटर, वीडियो गेम, को अपना सहारा बना लिया है । इसी कड़ी में रूस का एक खेल इन किशोरों के लिए काफी घातक बन गया है। जिसमे करीब 300 लोगों की जाने जा चुकी हैं। इस खेल का नाम 'दी ब्लू व्हेल चैलेंज` है, जोकि किशोरों को अपने खेल के जरिये अपने वश में कर उसे शारीरिक क्षति से लेकर आत्महत्या तक के लिए उकसाता है। जिसके चलते इस खेल से वशीभूत किशोर अपनी जान दे रहे है।इसका प्रभाव अब अपने देश में भी दिखने लगा है। इस तरह के खेल किशोरों को अवसाद को ढ़केल रहा है। इन सब में कहीं न कहीं माता पिता की भी भूमिका अहम है। क्योंकि इनकी व्यस्तता हो बच्चों को एकांत में जीने को मजबूर करती है। हर व्यक्ति अब सिर्फ अपने लिए जीता है। परिवार के हर सदस्य अपनी ही राम कहानी में मस्त रहते हैं, बच्चों के साथ बैठने का मौका ही नही रहता है। बच्चों की हर इच्छा को पूरा किया जाना भी सही नही है। भय, हिंसा व आक्रमकता ही अब खेल का हिस्सा हैं। ये ही मनोरंजन के साधन बन जाते हैं और ये कब बच्चों के मन पर हावी हो जाते हैं पता ही नही चलता है।  और इस तरह के गेम के साथ अपना समय व्यतीत करते करते इसी के आदि बन जाते हैं। ये हमारे समाज व सांस्कृतिक विचारों पर बड़ा प्रहार है। किशोरों की जिंदगियां खिलने से पहले ही मुरझा रही हैं। मोबाइल/वीडियो गेम इन किशोरों के मन मस्तिष्क में स्लो पॉइजन बन कर फ़ैल रहा है। अगर हमें इनकी जिन्दगी को खूबसूरत सवांरनी है ,तो इनको इस लत से मुक्त रखने की जरूरत है। गेम को लेकर हुए सर्वे में आज दुनिया भर में 100 अरब डॉलर से अधिक का व्यवसाय इंटरनेट गेम का हो गया है। विगत वर्ष की अपेक्षा करीब 9%बढा है। जिसमें एशिया की भागीदारी करीब 47%है। इसमें चीन में 27 अरब डॉलर अकेले है। भारत में भी इसकी तादाद दिनोदिन बढ़ रही है। देश में मोबाइल गेम खेलने वालों की संख्या लगभग 20 करोड़ है। जोकि अगले दो तीन वर्ष में इसकी संख्या तीन गुने से अधिक होने की सम्भावना है। अब इंटरनेट व सोशल साइटों लोग निर्भर रहते हैं। अपनी बुद्धि का प्रयोग कम करते हैं। इसी प्रकार बच्चे भी इस तरह का अनुपालन कर रहे हैं। किशोर की बाल्यावस्था व प्रौढ़ावस्था के बीच का अंतराल असमंजस भरा होता है। ये प्रौढावस्था की नकल करते हैं। उन्ही तरह बनने का प्रयास भी करते हैं। इनमें मानसिक विकास भी नही होता है। इसलिए निर्णय लेने व अच्छे बुरे की पहचान कम होती है। तभी जब समाज से  मनोवैज्ञानिक जरूरतों की स्वीकारोक्ति नही मिलती तब यही मासूम बच्चे तनाव, क्रोध,व्यग्र जैसी प्रवृत्तियां जन्म लेती है। इस लिए हमारे इन बच्चों के लिए माता-पिता द्वारा अपने व्यस्त पलों से कुछ समय अवश्य निकाल कर इनके पास बैठे और इनकी भावनाओं से परिचित होकर उनकी समस्याओं हल निकालने के साथ ही खुशनुमा माहौल दें।जिससे उनका एकांत पल कम मिले और  गेम आदि से दूर रहे ताकि तनाव से बच्चों को बचाया जा सके। इससे किशोरावस्था वाले बच्चे अच्छे बुरे की पहचान कर अपने भविष्य को उज्जवल बनाये।और बाल्यावस्था व प्रौढ़ावस्था के बीच मचलते बचपन को सही दिशा मिल सके।
‌@NEERAJ SINGH

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…