Skip to main content

अब मेरे बाबू को कौन लौटायेगा..........

अब मेरे बाबू को कौन लौटायेगा.......
ये दर्द भरी आवाज एक माँ की जो अपने नन्हे मुन्ने बच्चे को खो चुकी है। वो उसे अब खो चुकी जिसमें अपना भविष्य देख रही थी। जी हाँ हम बात करे हैं  रेयान स्कूल की घटना की जो शुक्रवार की सुबह घटित हुई थी और स्कूल में एक मासूम बच्चे प्रद्युम्न 06 वर्ष की गला काट कर हत्या कर दी गई। इस दर्दनाक घटना के होने की सूचना ने हर माँ बाप  को हिलाकर रख दिया, जिनके बच्चे इतनी हाई प्रोफाइल मंहगे स्कूल में पढ़ रहे हैं । एक बार उन्हें विश्वास नही हुआ की रियान जैसे इतने बडे संस्थान ये घटना हो सकती है। लेकिन हत्या की घटना हुई ,इससे इनकार भी नही किया जा सकता है। संस्थान की लापरवाही ने एक मासूम कीजान ले ली। इसी संस्थान की दक्षिणी दिल्ली शाखा में  स्कूल के वाटर टैंक में डूबने से दिव्यांश(06वर्ष) की मौत हो गई। यह अनहोनी वसंत कुंज स्थित रेयॉन इंटरनैशनल स्कूल में शनिवार को हुई। बच्चे के पिता रामहेत मीणा का आरोप है कि स्कूल प्रबंधन ने उनको धमकाया और चुप रहने को कहा। उधर, स्कूल प्रबंधन घटना को हादसा बता रहा है, जबकि पुलिस ने लापरवाही से मौत का मुकद्दमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 2 दिनों के भीतर स्कूल परिसर में मौत होने की यह दूसरी घटना है। इसके पहले 27 जनवरी को कापहसहेड़ा स्थित निगम स्कूल के सेप्टिक टैंक में गिरकर एक अन्य बच्चे की मौत हो गई थी। सवाल ये उठ रहा कि रियान इंटरनेशनल जैसी देश की जानी मानी शिक्षण संस्थानों का जब ये हाल है तब एनी का क्या होगा। मंहगी फीस अभिभावकों के स्टेटस बन चुका है। अपनी ख्वाहिशों को दबाकर लाखों रुपये बच्चों की पढ़ाई  पर खर्च कर मध्यमवर्गीय  हर माँ-बाप का अब एक सपना होता है कि मेरे बच्चे का अच्छे से अच्छे स्कूल में admission हो और सब सुख सुविधाओं से पूर्ण हो जिससे बच्चे को पढ़ने लिखने में कोई problem न हो। सबसे बड़ी उम्मीद इन महंगे स्कूलों से पैरेंट्स को ये होती है कि यहाँ बच्चे secure हैं। लेकिन जब यहीं ये मासूम सुरक्षित नहीं हैं तो कहाँ होंगे। आये दिन इस प्रकार के हादसे होते हैं, लेकिन management के कानों में जूं तक नहीं रेंगती है। हो भी क्यों न भई ये रसूख वाले जो हैं। पैसे की ताकत व राजनीतिक पहुंच इन्हें अंधा व बहरा बना देता है। और इन्हीं के बल पर पीड़तों की आवाज बन्द कर दी जाती है। आज तक हुए इन हादसों के जिम्मेदारों को अब तक कोई सजा नही हो सकी है। गुरुग्राम हादसे में भी यही हुआ कि पुलिस बड़े मोहरों को छोड़ छोटे मोहर को ही फंसाने का कार्य किया जा रहा है। लेकिन प्रद्युम्न के पिता ने पकडे गए आरोपी कंडक्टर पर पुलिस कार्यवाही पर ही सवाल खड़ा कर दिया है। मृतक प्रद्युम्न  के माता की मांग है कि स्कूल की प्रिंसिपल व  मैनेजमेंट के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो। उनका कहना है हम चाहते हैं कि मेरे बच्चे के साथ जो हुआ वो दूसरे पैरेंट्स के बच्चों साथ कोई अनहोनी न हो ।  लेकिन संस्थान के मैनेजमेंट के रसूख का नतीजा है कि प्रदेश सरकार का मंत्री  भी मैनेजमेंट  की बोली बोल रहा है। इस घटना ने रियान जैसे इंटरनेशनल स्कूल की व्यवस्था की पोल खोल रहा है कि अगर कंडक्टर स्कूल अंदर कैसे गया । टॉयलेट के पास कैमरा खराब था क्यों नही इतने समय से नहीं बना। केयर टेकर उस वक्त कहाँ थी जब बच्चा टॉयलेट गया था! ये सब बाते बड़े स्कूलों की व्यवस्था की कलई खोल दे रहा है। पैरेंट्स भी जब admission कराने जाते हैं तब स्कूल के सभी नियम कायदे पर सिंगनेचर कर देते है लाखों रुपये जमा कर देते हैं। लेकिन उन्हें ये भी पूछना चाहिये कि हमारे बच्चों की सुरक्षा गारण्टी का फॉर्म भी क्यों नही भरवाया जाता है।  इसलिये कि मंहगे स्कूल को ही सुरक्षा की गारण्टी अभिभावक मान कर चलते हैं ,याद तब आती है जब कोई बच्चे के साथ घटना हो जाती है। सरकार को भी चाहिये कि देश के भविष्य व माँ बाप के सपनों को संवारने वाले इन मासूमों की सुरक्षा के स्कूल पीरियड में संस्थाओं को उत्तरदायित्व बनाये। और स्कूल के नियम कायदों को भी कड़ाई से लागू किया जाये। जिससे मासूम की जान न जाए। और माँ रो रो कर ये न कहे कि अब मेरे बाबू को कौन लौटायेगा.......
@NEERAJ SINGH

Comments

  1. कोई कुत्ते की औलाद ही होगा साला.....बहुत कष्ट हुआ....फोटो देखकर तो ...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…