Skip to main content

सत्ययुग से कलयुग तक.....सफरनामा रावण का !

सत्ययुग से कलयुग तक.....सफरनामा रावण का !
‌विजयदशमी के अवसर पर आप सभी को बधाई देते हुए आइये आज हम आपसे रावण के सतयुग से कलयुग तक के सफरनामा पर बात करते हैं।पहले बात करते हैं सतयुग के रावण की जो लंका का राजा था। एक ऋषि पिता व राक्षसी माँ का पुत्र था। वो शंकर का अनन्य भक्त व प्रकाण्ड विद्वान था। एक बाहुबली,महा पराकर्मी व  अह्नकारी राजा था।  उसने अपनी बहन का बदला लेने के लिए प्रभु राम की पत्नी माता सीता जी का छल से हरण कर लंका ले गए थे। जहाँ प्रभु राम ने उसे व पूरे वंश को मार कर माता सीता को छुड़ाकर ले आये थे। तब से लेकर अबतक इसे पर्व के रूप में मनाया जाता है। और बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक के रूप विजयदशमी के दिन मनाया जा रहा है। और रावण व उनके परिजनों के पुतले जलाये जाते हैं। जो आज भी जारी है। लेकिन सतयुग से कलयुग आ गया है हर वर्ष रावण जी उठता है और फिर उसे जला कर मारना पड़ता है।  कभी आपने सोचा आखिर अब तक रावण को हर जलाना क्यों पड़ता हैं!  यही लगता है कि हम कागज के रावण मार देते हैं ,लेकिन मन में बसे रावण को युगों से मार नही सके हैं। यही कारण है कि मार कर भी उसे अपने व समाज में जीवित रखा है। सतयुग में रावण धरती पर एक  था,आज कलयुग में स्थिति ये है कि हर गली में एक दो रावण मिल जायेंगे। सतयुगी रावण के दस चेहरा था जो दिखाई देता था । लेकिन कलयुग के रावण में एक चेहरा  होते हुए दर्जनों चेहरे हैं जो दिखते नही हैं। उस रावण की अब के रावण अधिक खतरनाक हैं। क्योंकि ये हमारे ही बीच छुपे होते हैं और मौका मिलते ही घृणित कार्य को अंजाम देने में देर नही लगाते हैं। इसलिए हमें मन के रावण को मारने की आवश्यकता है । जब वो मर जायेगा तो हर वर्ष रावण का पुतला दहन की जरूरत नही पड़ेगी। और समाज में बैठे रावण को भी साफ़ करने जरूरत है। गन्दगी,बेरोजगारी, अशिक्षा, भ्रष्टाचार,अविकास,जैसे कलियुगी रावणों को समाप्त करने की जरूरत है। एक बात जरूर समझ में आता है कि सतयुग का रावण सीता का हरण किया और उसे अपनी रानी बनाना चाहता था , लेकिन माता सीता के सहमति का इंतजार किया और अपने संयम और इन्द्रियों पर काबू में रखा । क्या कलयुगी रावण ये कर सकता है उत्तर नही होगा। इस तरह हम कह सकते हैं कि तब का रावण अब तक काफी सफर तय कर चुका है। उस रावण से अब रावण काफी बदल चुका है। तब के रावण कुछ बुराइयों के अच्छाईयां भी जुड़ी थी। अब के रावण में बुराइयों का भण्डार  है। सतयुग में रावण अकेला था तो आज हर गली व मुहल्ले रावण मिल जायेगा। पहले वाला राजा था जिसे सब जानते थे । लेकिन अब के रावणों को कोई पहचान नही पायेगा कि कौन है जब उसके कारनामें का खुलासा न हो। क्योंकि मुखौटा लगाकर घूमते रहते हैं। फ़िल्म असली नकली का गाने की लाइन कलयुग के रावणों पर सटीक बैठती है......
 ‌   लोग तो दिल को खुश रखने को क्या क्या ढोंग रचाते है। 
    भेष बदल कर इस दुनिया में बहरूपिये बन जाते हैं।।
@NEERAJ SINGH

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…