Skip to main content

त्योहारों में रचा बसा हुआ है भारतीय संस्कृति !



 आज रक्षाबंधन का त्योहार पूरे देश में मनाया जा रहा है। भाई -बहन के प्यार का प्रतीक  रक्षाबंधन हमारी संस्कृति को दर्शाता है कि हमारे समाज में रिश्तों के कितने मायने हैं। भारत देश विविधताओं से भरा है, विशाल सांस्कृतिक विरासत ने भी हमारी पहचान विश्व जगत में अलग ही स्थान दिया है। अपने अनूठे स्वरूप के हजारों वर्षों के बाद भारतीय संस्कृति आज भी धरोहर के रूप में विद्यामान है।
        न जाने कितने आक्रांता भारत की संस्कृति को बदल नही पाये । भारत विविध रीतिरिवाजों व त्योहारों के लिए जाना जाता है। USA,UK,Rasia जैसे देश भले ही विश्व की महाशक्तियां हों, लेकिन अपनी संस्कृति को बचाने में कामयाब नही हो सके लेकिन भारत की संस्कृति आज भी पूर्ण विद्यमान है। इस देश में पत्नी पति के लिए कारवा चैथ का व्रत रखती हैं,माता बेटे के लिए पुत्रदा एकादशी का व्रत रखती हैं तो वहीं बहनें अपने भाई के दीर्घायु के लिए राखी बांधती हैं वहीं भाई बहन की रक्षा के लिए संकल्प लेता है। 
        इस त्योहार को हम रक्षाबंधन कहते हैं।इसी तरह भैया दूज में भी बहनें भाईयों के हाथों में राखी बांधती हैं।आज रक्षाबंधन है तो आज इसी पर हम बात करते हैं। कहा जाता है कि ये त्योहार हिन्दू धर्म के लोग पौराणिक काल से ही मनाते आये हैं। अनेक किदवंतियां चर्चित हैं , जिसमें एक बार देवों व दानवों के बीच में चले महासंग्राम के समय देवों पर दानव सेना हावी होने लगी तब देवताओं के राजा इन्द्र ने ब्रहमा जी से सहायता मांगी थी। जब उन्होंने कोई जबाब नही दिया तब उनकी पत्नी इन्द्राणी ने उनको रक्षा बांधकर जीत की कामना किया था। 
          इसी प्रकार मुगलकाल में मेवाड की महारानी कर्मावती ने मुगल राजा हुमायूं को राखी व पत्र भेज कर आक्रान्ता बहादुर शाह से अपनी व अपने राज्य की रक्षा के लिए कहा था। जिस पर हुमायूं ने बहन की रक्षा के वास्ते सेना सहित मेवाड पहुंचकर बहादुरशाह को परास्त करके महारानी कर्मावती को दिया वचन निभाया और मुस्लिम होते हुए हिन्दू रानी का भाई बन राखी बंधवाया। इतना ही नहीं स्वतंत्रता आन्दोलन में भी इस परम्परा का प्रयोग किया गया। महान कवि रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने बंगाल में बंग-भंग आन्दोलन में लोगों को महिला आंदोलनकारियों द्वारा रक्षा बंधवाकर बंगाल एकता संदेश दिया गया।  
     इस रक्षाबंधन त्योहार में बहनों द्वारा भाईयों को रक्षा बांधकर अपना प्यार उडेल देती हैं। भारत के विभिन्न भागों में अलग अलग तरीके से रक्षाबंधन मनाया जाता है। उत्तर प्रदेश में राखी या रक्षाबंधन का त्योहार कहा जाता है, उत्तरांचल में श्रावणी,महाराष्ट्र में नारियल पूर्णिमा या श्रावणी राजस्थान में रामराखी और चूडाराखी या लूम्बाबंधन कहते हैं। वहीं दक्षिण के राज्यों  केरल,तमिलनाडु व उडीसा में अविम अवित्तम कहा जाता है । पहले भी राजपूत राजाओं द्वारा युद्व के लिए निकलने से पहले उनकी पत्नियां अपने पति को टीका लगाती और रक्षा बांधकर जीत की कामना करती थी।  
      बचपन में हम सभी को इस त्योहार का बडी बेसब्री से इंतजार रहता था। रक्षा बांधने के लिए छौटी छोटी बच्चियां सुबह ही नहा धोकर तैयार होकर आ जाती थी। और रक्षा बांधती थी। बहुत अच्छा लगता था, उससे भी अधिक मिठाई पर नजर रहती जब तक राखी हाथों में बंधती रहती थी। ये क्या होता था कि रक्षा बांधने वाली बहन और बंधवाने वाला भाई दोनों में उस समय सिर्फ प्यार और उमंग ही रहता था बिना किसी स्वार्थ के एक दूसरे पर बडी मासूमियत से प्यार उडलते दिखते थे। आज भी इस प्यार भरे रक्षाबंधन त्योहार वही उमंग दिखता है। आज के समय में जब भारतीय संस्कृत को कठिन दौर से गुजरना पड रहा है,इन त्योहारों में बच्चे,युवा व बुर्जुग के उल्हासपूर्ण माहौल में बढ चढकर मनाया जाना एक सुखद अनुभव है। ओर हमें लगता है कि हमारी संस्कृति किसी भी मायने में कमजोर नही हुई है। त्योहार आदि त्योहार मानवीय रिश्तों को मजबूत करने का कार्य करते हैं। 
               आज की सामाजिक व्यवस्था से आर्थिक व्यवस्था की तरफ बढ रहे समाज को देख कर वर्तमान में इन त्योहारों की आवश्यकता और बढती जा रही है। चंद पैसों व सम्पत्तियों के लिए माता का पुत्र द्वारा पिता का पुत्र-पुत्रियों के द्वारा व बहन द्वारा भाई की हत्यायें कर दी जा रही हैं।  लहू के रिश्तों को लालच के दानव तार तार कर रहे हैं। थोडे से लाभ के लिए अपने ही अपनों के खून के प्यासे हो रहे हैं। आखिर क्या रहा है इस समाज को कि स्वार्थ ने लोगों अंधा बना दिया है। बदल रही इस वीभत्स रूप धारण कर रहे सामाजिक व्यवस्था को बचाने के लिए सदियों से चल रही संस्कृति की रीति रिवाजों को मजबूती के साथ इसी रास्ते पर चलने की आवश्यकता है। इसका सबसे बढिया माध्यम हमारी परम्परायें और त्योहार हैं। इन त्योहारों में ही हमारी संस्कृति झलकती है। 


@Neeraj Singh

सभी पाठकों को रक्षाबंधन की बहुत बहुत शुभकामनाएं।

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…