Skip to main content

गिरधर गोपाल ,दूसरो न कोई....अनेक रूपों में हमारी भारतीय संस्कृति



 गिरधर गोपाल ,दूसरो न कोई........
मेरे तो गिरिधर गोपाल दूसरो न कोई। जाके सिर मोर मुकुट मेरो पति सोई। तात मात भ्रात बंधु आपनो न कोई॥
उक्त बातें भारतीय संस्कृति में ही सम्भव हैं। प्रभु को माता,पिता,भाई,व पति सभी रूपों में वंदन व पूजन होता है । मीरा जैसी भक्ति कि प्रभु को ही पति मान कर सारा जीवन ही भक्ति में लीन कर दिया। ऐसे उदाहरण आदि सनातन हिन्दू धर्म  में मिलता है ,जिसका दूसरा उदाहरण पूरे विश्व में नही मिलता है। संस्कार समाज को सभ्य बनाती है। जितने अच्छे संस्कार होंगे ,उतनी अच्छी सभ्यता होगी। सभ्यता सुन्दर होती है। संस्कृति सभ्यता अन्तः करण में बहने वाली एक धारा है। धर्म व्यक्तिगत होता है। लेकिन संस्कृति सार्वजनिक है।  संस्कृति अच्छी होती है ,खराब भी होती है।बुरी संस्कृति अच्छी में कतई समाहित नही हो सकती है। प्रभु राम मर्यादा पुरुषोत्तम कहा जाता है, क्योंकि संस्कार से परिपूर्ण थे। पिता के आदेश पर 14 वर्ष वनवास गुजार दिया। तो कन्हैया ने अपने प्रेमलीला से सारे संसार का मन मोह लिया था और अर्जुन को गीता का ज्ञान देकर मानव को जीवन जीने की सीख दी।हमारी संस्कृति और संस्कार का जोड़ जगत में मिलना दुश्वार है। इस संस्कृति पर न जाने कितने आक्रान्ता ने इसे समाप्त करने के आक्रमण किया लेकिन इसे ख़त्म नही कर सके। इसी संस्कृति से मिस्र, चीन,कम्बोडिया,जापान आदि देश की संस्कृति व परम्परा प्रभावित हैं। हमारी संस्कृति ने जीवन में रिश्तों का मायने बताया है। ढाई अक्षर के शब्द से मानव को परिचित कराने कार्य किया है। प्रेम रूपी इस शब्द से दुनिया को जीत लेने की शक्ति से परिचय कराया।  भारतीय संस्कृति में चार  मूल्य होते हैं धर्म,अर्थ,काम व मोक्ष, इन चारों को अपने जीवन में एक साथ नही कर सकते है। इन्हें अलग अलग समय में ही किया जाएगा। हमारी संस्कृति का  तीज त्योहारों से झलक मिलती है ,ये सभी त्योहारों में दुःख दर्द नाम की चीज नही होती है ,जैसा कि अन्य धर्मों व सभ्यता की परम्पराओं में मिलते हैं। यहाँ सभी त्योहारों में हर्ष,उमंग,सदभाव् सहित संस्कारों से प्रेरित होता है,जोकि जीवन में नई सीख देने वाला होता है। होली रंगों से परिपूर्ण प्यार,उमंग भाईचारा का सन्देश है तो दीपावली जीवन में रौशनी लाने व आज जन्माष्टमी के दिन प्रभु श्री कृष्ण के जन्म पर याद करते हैं। जोकि पापियों का नाश करते हैं , तो कालिया नाग का मान मर्दन करते हैं। वहीं गोपियों संग रासलीला रचाते हैं। प्रेममयी प्रभु श्रीकृष्ण की लीलाओं से प्रभावित हो गोपियों व मीरा जैसी भक्ति उन्ही को अपना पति मान जीवन गुजार दिया। उन्होंने अपनी पत्नी रुक्मणी को वो दर्जा नही दिया जो कि अपनी प्रेमिका राधिका दिया। प्रेम को पहला स्थान दिया। उधर प्रभु ने बाल सखा विप्र सुदामा का पैर धुल कर मोक्ष का रास्ता दिखलाया। ये है हमारे संस्कार, जिससे प्रभावित होकर अनेकों देशों के लोग भारत में ही आकर बस गए और हमारी संस्कृति व संस्कार को अपना लिया है और कहते हैं कि मेरे तो गिरधर गोपाल दूसरो न कोई..........
@NEERAJ SINGH
सभी पाठकों को जन्माष्टमी की शुभकामनाएं।

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…