Skip to main content

देश की संवैधानिक आजादी के कैसे बदले मायने ......*आजादी के 70 साल का सफरनामा*


   


देश की संवैधानिक आजादी के कैसे बदले मायने ......
आजादी के 70 साल का सफरनामा 
‌देश की आजादी का 70साल हो गया है। इस दरमियान हमने बहुत सारे उतार चढ़ाव देखा है। चीन,पाकिस्तान,व कारगिल युद्ध देखा तो देश को परमाणु महाशक्ति बनते भी देखा। विकास की नई ऊंचाइयों की तरफ देश बढ़ा तो एवरेस्ट पर फतेह व अंतरिक्ष में कदम भी भारतीयों के रखते देखा । नेहरू, पटेल,लाल बहादुर,इन्दिरा ,व अटल का दौर देखा है। भोपाल गैस त्रासदी, भुज का भूकंप, बद्रीनाथ का जल प्रलय को भी इस देश ने झेला है। अब देश में बाहरी व आंतरिक आतंकवाद को झेल रहा है। फिर भी हमारी आजादी अक्क्षुण अखण्ड व अटूट है। जब भी देश को इसकी जरूरत पड़ी सभी देशवासी सदैव तैयार  रहते हैं। इन सत्तर सालों एक बात जरूर बदलते देखने को मिल रहा है वो है संवैधानिक आजादी। जिसका मायने हो राजनीतिक दलों ने बदल कर रख दिया है। मौलिक अधिकारों का दुरुपयोग अगर इन 70 सालों इतना शायद कभी नही हुआ है। इन अधिकारों में अभिव्यक्ति की आजादी की परिभाषा को कुछ समाज के ठेकेदारों ने ही बदल कर रख दिया। और उन्हें राजनीतिक दलों का वरदहस्त मिला हुआ है। जब भी इन पर नकेल कसने का प्रयास होता है तो ये अभिव्यक्ति की आजादी का कवच धारण कर धर्मनिरपेक्ष का चोला पहन कर अपना बचाव करना शुरू कर देते हैं। जिस देश के लिए हिन्दू,मुस्लिम सहित सभी धर्मों के तिरंगे की शान के लिए व आजादी की चाह में अपना जीवन बलिदान कर दिया ,अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया ,आज इसी तिरंगे को फहराने के लिए कोर्ट को  सरकारों के लिए आदेश जारी करना पद रहा है , कितनी दुःखद बात है। जिस गीत की धुन पर शहीदों ने अंग्रेजों की बन्दूकों की गोलियों के सामने नही डरे , इसे गाते हुए अशफाक उल्ला, भगत सिंह, विस्मिल आदि आजादी के दीवाने फांसी पर चढ़ गए। आज उस वन्देमातरम् को गाने से इस्लाम खतरे में पड़ रहा है। भारत में रह कर भारत को ही गाली देना व दुश्मन देश व उसके आतंकियो की वाह वाही ही असली अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता मानी जा रही है। कहते हैं आजादी जितनी पुरानी होगी उतनी ही मजबूत बनती जायेगी। लेकिन यहाँ तो कुछ और ही दिख रहा है। शिक्षा के बढ़ते स्तर के बावजूद हमारे नौजवानों को भटकाने का काम राष्ट्र विरोधी शक्तियां कर रही हैं। और कुछ तथाकथित राजनीतिक दलों के नेताओं की भूमिका चन्द वोटों की खातिर सत्ता की भूँख इन्हें संदिग्ध बनाती हैं। इनके बयानों की शैली से देश विरोधी ताकतों को बल देने का कार्य किया जा रहा है। विशेष रूप से इसका सबसे साइड इफेक्ट कश्मीर में हो रहा है। अनेक TV Chanalon  पर सार्वजनिक रूप से देश के अंदर के गद्दार  आतंकियों का पक्ष लेते हैं और टोकने पर अभिव्यक्ति की आजादी की दुहाई देते हैं। जिन्होंने संवैधानिक आजादी जो संविधान में दी गई थी उन्हें भी मालूम नही था देश तथाकथित नेता ,समाज सुधारक व धर्म के ठेकेदार संवैधानिक मायने हो बदल देंगे।अब सवाल ये है कि एक बार फिर आजादी की वर्षगांठ मना रहे हैं, क्या हमने देश के इन भितरघातियों के बारे में सोचा की इनका क्या करें ! जो दीमक की तरह देश को खोखला करने का काम कर रहे हैं। आज 70 साल बीत जाने के बाद देश विकास की पथ की ओर अग्रसर है । लेकिन अशिक्षा , बेरोजगारी, गरीबी, जैसी समस्याओं से आज भी जनता जूझ रही है। हमें आवश्यकता है इन सबसे मुक्त कराने की जिससे देश समृद्धशाली बन सके। लेकिन ऐसा नही हो पा रहा है। राजनीति का विकृत रूप ने संबैधानिक व्यवस्था को ही बदल कर रख दिया है। भला हो न्यायपालिका का जिसने संवैधानिक व्यवस्था को बदलने वाले प्रयासों पर काफी हद तक अंकुश लगा रखा है,वर्ना राजनीतिक स्वार्थो के लिए ये नेता देश की अस्मिता को भी बेचने में गुरेज नही करते । देश की आंतरिक सुरक्षा का सबसे बड़ा खतरा आज अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बनती जा रही है । लोग इसका दुरुपयोग कर देश के ही खिलाफ जहर उगलने लगे हैं। सरकार को  इस पर विचार करने की जरूरत है,नही तो देश की युवाओं को अराजकता की ओर जाने से कोई नही रोक सकता है। इसका सबसे ताजा उदाहरण कश्मीरी बच्चों के हाथों में पत्थर  अलगाववादियों  ने थमा दिया। वहाँ की मौजूद मस्जिदों में होने होने वाली तक्करीरों ने युवाओं के हाथों में बंदूके थमाने का कार्य किया है। अगर समय पर ध्यान सरकार देती तो शायद देश को इतनी बड़ी संख्या में सेना के जवानों को शहादत न देनी पड़ती । अभिव्यक्ति की आजादी पर आकलन कर इस पुनर्विचार की आवश्यकता महसूस हो रही है। जिससे देश की एकता, अखण्डता ,सुरक्षा अक्षुण्य बनी  रहे। 
‌जय हिन्द ,जय भारत।

@NEERAJ SINGH

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…