Skip to main content

दल.बदलुओं को समायोजित करना भाजपा के लिए नहीं होगा आसान

नीरज सिंह------- प्रदेश में आचार संहिता लगते ही राजनीतिक व प्रशासनिक हलचल तेज हो गई है। जहां प्रशासन एक तरफ बैनर होल्डिंग,पोस्टर आदि उतरवाने से लेकर चुनाव तैयारियों में जुट गया है। वहीं दूसरी तरफ राजनीतिक दलों ने भी अपनी अपनी तैयारियां जोरों पर शुरू कर दिया है। बहुजन समाज पार्टी ने प्रदेश की विधानसभा सीटों पर अपने प्रत्याशी घोषित करके अन्य दलों से इस मामले में बाजी मार ली है। इस पार्टी का इतिहास रहा है कि पर्चा दाखिल होते होते घोषित प्रत्याशी बदल जाता है।फिलहाल अभी तो ये सभी चुनाव लड भी रहे हैं। अन्य दल में कांग्रेस ने अपने पत्ते नही खोले हैं, वहीं समाजवादी पार्टी का अभी तय ही नही हो पा रहा है कि चुनाव अखिलेश यादव के नेतृत्व में होगा या फिर मुलायम सिंह की अगुआई में तय ही नहीं हो पा रहा है। जिससे इसके नेता व टिकट के दावेदार दोनों ही कन्फ्यूज हो रहे हैं। सपा की उठा पटक से लग रहा है कि पार्टी का दोनों धडा चुनाव अलग अलग लड सकते हैं। आज भी कोई नतीजा निकलता नहीं दिख रहा है हां इतना जरूर है कि इस परिवारिक घमासान में अखिलेश पार्टी के सर्बमान्य नेता बनकर उभरें हैं वही मुलायम सिंह पार्टी के इतिहास का बीता पन्ना बनते दिखाई पड रहे हैं।उधर कांग्रेस का गठबंधन सपा से होना कहना गलत होगा क्योंकि मुलायम सिंह गठबंधन के खिलाफ हैं इसलिए अखिलेश की पार्टी हो या उनके नेतृत्व में सपा के मिलकर चुनाव लड सकते हैं।अब लगता है कि अखिलेश उत्तर प्रदेश में गइबंधन की राजनीति को तवज्जो देकर अंर्तकलह से हुए नुकसान की भरपायी करने का प्रयास अवश्य करते दिख रहे हैं। लेकिन इससे नुकसान की कितनी भरपायी होगी ये तो वक्त बतायेगा। फिलहाल पार्टी के अंर्तकलह से बसपा को लाभ होता दिख रहा है। राजनीति जानकारों का कहना है कि बसपा से भी कहीं ज्यादा भाजपा लाभ में रहेगी अनुमान लगाया जा रहा है। अब बात करते हैं देश के सबसे बडे दल भारतीय जनता पार्टी की जिसमें हर सीट पर टिकटार्थियों की लम्बी फेहरिश्त है। टिकट बांटने सबसे बडी मुसीबत इन्हे ही झेलनी है। इस पार्टी के लिए सबसे बडी समस्या अन्य दलों से आये हुए दल बदलू नेताओं से होगी। क्योंकि उनकी भी दावेदारी पुख्ता हैं नये पुराने नेताओं को जिले की सीटों पर समायोजित करना टेढी खीर के समान है। बसपा को छोड सभी दलों को प्रत्याशियों के चयन को लेकर दिक्कतों का सामना करना तय है। अब हालात ये हैं कि कई दावेदार लखनऊ व दिल्ली में डेरा जमा रखा है। तो कई अपने टिकट से आश्वस्त होकर क्षेत्र में जमंे हुए हैं। प्रदेश की राजनीतिक मंच का मजा तभी आयेगा जब सभी दल अपने अपने पत्तों को खोल दें । तभी पता चल सकेगा कि किस पार्टी का समीकरण क्या होगा । फिलहाल अभी बसपा को छोड अन्य दल के टिकटार्थियों में टिकट पक्का करने की होड मची है। सपा फैमली ड्रामा चल ही रहा है । जिससे पार्टी के नेता से लेकर कार्यकत्र्ता परेशान है। इससे कांग्रेस में गठबंधन को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। और चुनाव लडने वाले दोनों दलों के भावी प्रत्याशियों के चेहरे पर शिकन हटने का नाम नही ले रही है कि गठबंधन होने की स्थित में किसको टिकट मिलेगा ! चुनाव का पहला चरण के लिए एक माह से कम समय बचा है।

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…