Skip to main content

समाजवादी परिवार पर अमर छाया

/>
देश के सबसे बडे राज्य उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव के पूर्ब राजनीतिक चहल पहल तेज हो गई है। कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी खटिया पंचायत कर सुर्खियों में बने हुए हैं। तो भाजपा अन्य दलों के विधायकों को पार्टी में शामिल कर खलबली मचा दी है। मायावती भी रैलियां कर सभी दलों पर तीर छोडने का कार्य कर रही हैं। इन सभी के के बीच सत्तारूढ समाजवादी पार्टी इन सभी से इतर अलग ही छाप छोडकर सबसे अधिक सुर्खियां बटोर रही है। ये किसी का दलबदल कराकर या विकास एजेंडा या फिर रैलियों से नहीं बलिक आपसी कलह के कारण चैनलों व अखबारों की सुर्खियों में है। वर्ष 2012 में सत्तारूढ होते ही अखिलेश यादव के सामने सबसे बडी चुनौती उनके ही परिवार वाले रहे हैं।अब चुनाव आते आते पार्टी दो फाडों में बंटती दिख रही है। एक नेतृत्व मुख्यमंत्री के चाचा शिवपाल यादव कर रहे हैं,वही दूसरा खेमा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कर रहे हैं। सपा का सत्ता में आने पर ही दोनों तनातनी अन्दर खाने में शुरू से ही है। पर विगत माह ये परिवारिक विवाद सतह पर आ गया जब बाहुबली मुख्तार अंसारी की कौमी एकता दल का पार्टी में विलय हुआ। इस पर अखिलेश ने नाराजगी दिखायी और कहा इस विलय से पार्टी की छबि खराब होगी। और उनके दबाब में विलय टूट गया। जिससे शिवपाल काफी नाराज हुए। इसी बीच कभी सपा के दूसरे नं0 के नेता रहे अमर सिंह को अखिलेश यादव द्वारा महत्व न देना अखरने लगा। शिवपाल की पैरवी से पार्टी में शामिल हुए अमर सिंह का खेल शुरू हो गया। शिवपाल गुट को अमर सिंह,मुलायम सिंह की दूरी पत्नी साधना गुप्ता का भी साथ मिल गया। जबकि अखिलेश को रामगोपाल यादव व आजम का साथ पहले से मिला है। इसी बीच अखिलेश यादव ने अपने मंत्रिमंडल से शिवपाल के करीबी बाहुबली मंत्री राजकिशोर सिंह,व मुलायम के करीबी मंत्री व सीबीआई की जांच के घेरे में आ चुके गायत्री प्रसाद प्रजापति को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया। ये बात दोनों बडे नेताओं को अखर गई और सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह ने अखिलेश प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर शिवपाल को प्रदेश अध्यक्ष बना दिया तो अखिलेश ने शिवपाल के नौ में से सात विभाग छीन लिए। बढते बवाल पर मुलायम ने रामगोपाल को दिल्ली से अखिलेश को मनाने लखनऊ भेजा,लेकिन वह मनाने में असफल रहे । हां उन्होने इस विवाद का ठीकरा अमर सिंह पर जरूर फोड दिया। मुलायम मामले की गंभीरता को देखते हुए लखनऊ पहुंचे और चाचा भतीजे में सुलह करायी। और गायत्री की मंत्रिमंडल में वापसी की घोषणा की।लेकिन राजनीतिज्ञों की माने तो पार्टी में जिस प्रकार शिवपाल व अखिलेश के लिए समर्थक लामबंद हुए इससे पार्टी को बडी क्षति की संभावना व्यक्त की जा रही है। वहीं अमर सिंह के भी सुर बदल गये हैं। सूत्रों की माने तो समाजवादी परिवार अमर सिंह की गतिविधियों पर लगाम लगाने की सोच रहा है। जिससे दोबारा कोई विवाद न आये। अन्य दलों ने इसे हाई बोल्टेज का दिया। हां अखिलेश यादव का सुलह के बाद एक बडा बयान आया कि हम आप की सारी बातें मान लेता हूं, लेकिन नेता जी से उम्मीद करता हूं कि अगले चुनाव में टिकट बांटने में मेरी सुनी जाय। इसका यही मतलब निकलता है कि टिकट बंटवारे में अखिलेश की ही चलेगी। इसी पर सुलह समझौता हुआ है। मीडिया की खबरों में मंत्रिमंडल में आधे से अधिक मंत्री व करीब सौ विधायक शिवपाल के साथ दिखे। इसी लिए सीएम अखिलेश ने टिकट बंटवारे में बडी भागीदारी की मांग की है।

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…