Skip to main content

बॉलीवुड के स्टार गीतकार और संवाद लेखक मनोज मुंतशिर सम्मान समारोह का आयोजन

अमेठी। शनिवार को राजर्षि रणञ्जय सिंह इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नाॅलाजी के कैम्पस मे बॉलीवुड के स्टार गीतकार और संवाद लेखक मनोज मुंतशिर के लिए एक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। छात्रों के बीच अपने को पाकर मनोज मुंतशिर अपने पुरानी यादों मे खो गए। अमेठी जनपद के गौरीगंज मे जन्मे मनोज शुक्ला आज कामयाबी के बुलंदियों पर हैं और फिल्म जगत मे अपने लिए अलग पहचान बना लिया है। ‘एक विलेन’ फिल्म के ‘गलियाँ तेरी गलियाँ’ गीत के लिए आईफा अवार्ड पाने वाले मुंतशिर जी पहले भी स्टार गिल्ड तथा इंडियन टेली अवार्ड जैसे कई अन्य अवार्ड पा चुके हैं। मनोज मुंतशिर ने बतौर गीतकार पहली फिल्म ‘दी ग्रेट इंडियन बटर फ्लाइ’ किया तथा बाहुबली जैसे सुपर हिट फिल्मो मे संवाद लेखन का कार्य किया। दर्जनो फिल्मों के गीत लिख चुके मुंतशिर जी ने अपने प्रशंशकों को पीके, कपूर एंड संस, वजीर, जय गंगाजल, राकी हैंडसम, रंग रसिया, बेबी, दो दूनी चार जैसी हिट तथा लोकप्रिय फिल्में दीं। अभी 12 अगस्त को रिलीज अक्षय कुमार की फिल्म ‘रुशतम’ का सुपर हिट गीत ‘तेरे संग यारा खुशरंग बहरा’ के बोल भी मुंतशिर जी के दिये हुये है। मुंतशिर जी के सम्मान समारोह के कार्यक्रम ने आरआरएसआईएमटी के छात्रों मे जोश भर दिया। राम कृपा सिंह ने ‘मै तुझसे प्यार नहीं करता’ तथा उमा गुप्ता ने ‘लग जा गले’ गीत से मुंतशिर जी का स्वागत किया। छात्रों की तरफ से आभेष मौर्य ने ‘मैनु काला चश्मा’ गाने पर एकल डांस तथा अक्षरा और ग्रुप ने ‘छम-छम’ गीत पर ग्रुप डांस प्रस्तुत किया। मुंतशिर जी के बचपन के जिगरी दोस्त और संस्थान के संयुक्त सचिव डॉ दीपक सिंह ने अपने स्कूल के पुराने दिन याद करते हुये बताया कि मनोज बचपन से ही हम लोगों को गीत और शायरी सुनाया करते थे और ये इनके सपनों कि ताकत ही है कि आज ये इतनी ऊंचाइए हासिल कर चुके हैं। उस वक्त कि बात करते हुये डॉ दीपक सिंह ने कहा कि जब मनोज बंबई के लिए ट्रेन पर बैठ रहे थे तो मैंने उन्हें एक पेन और ग्रीटिंग भेंट करते हुये उसी ग्रीटिंग पर लिखा कि ‘जाने कि जिद है तो जीत के आना’ और आज वो सारा जहां जीत के आए हैं। संस्थान के निदेशक कर्नल एस के गिगू ने कहा कि बड़े शहरों कि छमता समाप्त हो रही है, वास्तव मे प्रतिभा छोटे शहरों मे ही है। । अमेठी जैसे छोटे शहर से होकर भी आज मुंतशिर जी कामयाबी कि इतनी ऊंचाई पा चुके हैं जो दूसरे युवाओं के लिए प्रेरणा है। कार्यक्रम मे मुंतशिर जी ने छात्रों के सवालों का जवाब देते हुये कहा कि मेरी कलम मे स्याही अमेठी भरता है। बड़े शहर छोटे शहरों के हुनर से जिंदा हैं। मुंतशिर जी ने यह भी कहा कि सफल होने वालों को सफलता प्राप्ति के लिए कभी संदेह नहीं करना चाहिए। कार्यक्रम के पश्चात आयोजित प्रेस वार्ता मे मुंतशिर जी ने अपने आने वाली फिल्मों के बारे मे भी बताया। उन्होने कहा कि आगे आप एमएस धोनी, काबिल, बाहुबली भाग दो जैसी फिल्में देख पाएंगे। इस अवसर पर आरआरपीजी कालेज के प्राचार्य डॉ लाल साहब सिंह, रानी सुषमा देवी महाविद्यालय कि प्राचार्या डॉ पूनम सिंह, राजर्षि रणञ्जय सिंह कॉलेज ऑफ फार्मेसी के प्राचार्य अनूप मैटी, आशीष त्रिपाठी समेत संस्थान के सभी विभागाध्यक्ष, शिक्षक तथा स्टाफ उपस्थित रहे। कार्यक्रम का सफल संचालन उमा गुप्ता ने किया तथा सफल संयोजन प्रवेश श्रीवास्तव ने किया।

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…