Skip to main content

सियासत का जनरल वीके सिंह

सेना से लेकर सियासत तक मोर्चे पर डटे रहने वाले योद्धा साबित हो रहे हैं पूर्व सेनाध्यक्ष और मौजूदा विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह. जनरल वीके सिंह युद्धग्रस्त, हिंसाग्रस्त और समस्याग्रस्त क्षेत्रों से भारतीयों को सुरक्षित निकाल कर लाने के तमाम सफल ऑपरेशनों के नायक के बतौर उभर कर सामने आए हैं. लीबिया हो या इराक, यमन हो या सूडान, यूक्रेन हो या सऊदी अरब, जहां भी भारतीय फंसे, उन्हें वहां से सुरक्षित निकाल कर भारत पहुंचाने की जिम्मेदारी जनरल वीके सिंह को ही दी गई और उन्होंने भी खतरे और जोखिम से भरी स्थितियों में सैन्य कुशलता और रणनीति का इस्तेमाल कर भारतीयों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया. राजनीति के गलियारे में वीके सिंह को अब सियासत का जनरल कहा जाने लगा है. युद्ध और हिंसाग्रस्त देशों से अपने नागरिकों को सुरक्षित बाहर निकाल ले आने से भारतवर्ष की दुनियाभर में ऐसी साख बनी कि अमेरिका, फ्रांस समेत 40 विभिन्न देशों ने हिंसाग्रस्त देशों में फंसे अपने नागरिकों को निकालने में जनरल वीके सिंह से मदद मांगी और भारत सरकार के प्रतिनिधि के बतौर उन्होंने भारतीयों के साथ-साथ विदेशी नागरिकों को भी सुरक्षित बाहर निकालने में कामयाबी हासिल की. जो भारतीय युद्धग्रस्त और हिंसाग्रस्त देशों से सुरक्षित निकल कर भारत पहुंचे हैं, उनकी आपबीती सुनें तो रेस्क्यु ऑपरेशंस की कामयाबी के पीछे की जद्दोजहद, तकलीफ, रणनीति और जोखिम का अहसास होगा. एयरपोर्ट ध्वस्त हो चुका हो, लगातार बमबारी हो रही हो, विमानों से हमले हो रहे हों, एयर ट्रैफिक कंट्रोल ने भारतीय विमानों को एयरपोर्ट पर लैंड करने से मना कर दिया हो, ऐसी विपरीत स्थितियों का सामना कर भारतीयों को बाहर निकाल लाने में कोई शख्स अपनी युद्ध-कुशलता और रणनीतियों की वजह से कामयाब हो रहा हो, यह सुन कर आपको रोमांच भी आएगा और गौरव की अनुभूति भी होगी. रेस्क्यु ऑपरेशंस से जुड़े रहे विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी कहते हैं कि ऐसे ऑपरेशंस में जनरल ऐसे ऐक्ट करते हैं जैसे उन्हें पता है कि क्या करना है, क्या नहीं करना है, निश्चित तौर पर यह सेना की ट्रेनिंग का असर है, टास्क एंड टार्गेट ओरिएंटेड, लिहाजा लक्ष्य साधने और उसे हासिल करने में अधिक दिक्कत नहीं होती. कई जगह उन्हें जनरल होने का फायदा भी मिल जाता है. इससे कूटनीतिक के साथ-साथ सामरिक जटिलताएं सुलझाने में भी मदद मिल जाती है. यमन और दक्षिणी सूडान में फंसे भारतीयों को निकालने का ऑपरेशन अधिक कठिनाई से भरा रहा है. लीबिया से करीब तीन हजार और इराक से सात हजार लोगों को पहले ही निकाल लिया गया था, लेकिन यमन में फंसे हजारों भारतीयों का बाहर निकलना मुश्किल था. विदेश मंत्रालय के अधिकारी भी मानते हैं कि यमन का रेस्क्यु अभियान काफी टफ और जोखिम भरा था. यमन से साढ़े छह हजार लोगों को बहुत ही मुश्किल से निकाला गया. भीषण युद्ध के बीच ही रेस्क्यू ऑपरेशन किया गया. बमबारी के कारण सना एयरपोर्ट ध्वस्त हो चुका था. भारतीयों को निकालने के लिए सरकारी पक्ष ने अपनी तरफ से गोलीबारी रोकने के लिए मात्र दो घंटे का समय (विंडो) दिया था. लेकिन इतने ढेर सारे लोगों को लाने और पासपोर्ट पर एक्जिट की मुहर लगाने में ही दो घंटे लग गए. इस दरम्यान सरकारी फाइटर विमानों ने दुश्मनों पर हमले फिर शुरू कर दिए. इसके मध्य ही भारतीयों की दो बड़ी खेपें निकालने में कामयाबी मिली. जनरल ने खुद सना में ही रुक जाने का फैसला किया. उनके पास कोई सामान भी नहीं था, क्योंकि तय कार्यक्रम के मुताबिक उन्हें उसी दिन दिल्ली वापस लौट आना था. लेकिन ऑपरेशन अभी बाकी था, लिहाजा उन्होंने सना में ही रुकने का फैसला किया. रात को जनरल वीके सिंह को ऐसे एक पुराने होटल का पता लगा जो कभी ताज ग्रुप चलाया करता था, बाद में उसे स्थानीय नियंत्रण में दे दिया गया था. होटल के बाहर बाकायदा एयर डिफेंस गन्स लगे हुए थे और सुरक्षा बल रुक-रुक कर गोलियां दाग रहे थे. जनरल सिंह उसी होटल में रुके. वहां एक रसोइया भी भारतीय निकला जो उत्तराखंड के गढ़वाल का था. जनरल सिंह के पास अगले दिन पहनने के लिए कपड़े नहीं थे. रात में उन्होंने कपड़े धोए, उसे सुखाया और सुबह वही पहना. उस ऑपरेशन में अकेले सना से 4700 लोग निकाले गए. अदन से जहाज तक नावों से भी लोगों को निकाला गया. नौसेना के भी तीन पोत बुला लिए थे. दो क्रूज लाइनर भी मंगा लिए गए थे. सबसे मुश्किल तो तब हुई जब सना से भारतीयों को निकाल कर ला रहे आखिरी विमान को जिबूती में एटीसी ने उतरने से मना कर दिया. एटीसी ने पायलट को धमकियां दीं और वापस लौट जाने की हिदायत दी. विमान मुड़कर वापस लौटने भी लगा, लेकिन ऐन मौके पर जनरल सिंह ने सैन्य कुशलता का इस्तेमाल किया. उन्होंने कॉकपिट में जाकर सीधे एटीसी से बात की और कहा कि सारे विमानों की लैंडिंग फीस की रकम उनके पास है, अगर उन्हें उतरने की इजाजत नहीं मिली तो पैसा नहीं मिल पाएगा. इस पर एटीसी वाले ढीले पड़े, उतरने की इजाजत दी, लेकिन फिर कुछ ही मिनटों में पलट गए और विमान को वापस ले जाने को कहा. विमान में रेस्क्यु हुए भारतीय और विदेशी भरे हुए थे. आखिरकार जनरल ने एटीसी से कहा कि विमान में फ्यूल नहीं है, लिहाजा वे विमान को जबरन उतार रहे हैं. ऐसा कह कर विमान को सीधे लैंड करा दिया गया. जबकि विमान में फ्यूल पूरा था, लेकिन इस तरह लोगों को सुरक्षित लाया जा सका. इसका दुनिया के देशों पर असर यह हुआ कि 40 देशों ने भारत से रेस्क्यु में मदद मांगी. जिबूती में अमेरिकी राजदूत ने जनरल वीके सिंह से मुलाकात कर मदद मांगी. इस पर अमेरिकी नागरिकों को भी बाहर निकाला गया. यमन में करीब साढ़े छह हजार भारतीय फंसे थे और युद्ध चल रहा था. ऐसा पहली बार हुआ कि विदेशी जमीन पर युद्ध छिड़ा हुआ हो और भारत सरकार का कोई मंत्री भारतीयों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए सबसे बड़ा ऑपरेशन चला रहा हो. यह मिशन एक साथ तीन देशों के तीन शहरों के बीच चला. लेकिन इस मिशन का कंट्रोल जनरल के हाथ में था. फौज का लंबा अनुभव उनके इस काम को सरल बना रहा था. जनरल कभी यमन की राजधानी सना से राहत ऑपरेशन का निर्देशन कर रहे थे तो कभी पड़ोसी देश रिपब्लिक ऑफ जिबूती और अदन पहुंच जाते थे. कभी भारतीयों को लेकर उड़ने वाले पायलट से रूबरू हो रहे थे तो कभी घबराए भारतीयों को तसल्ली दे रहे थे. ऐसे विपरीत हालात में जब इस बड़े बचाव मिशन को अंजाम दिया जा रहा था, उस समय यमन की राजधानी सना पर सऊदी अरब समर्थित लड़ाकू जहाज बम बरसा रहे थे. चौतरफा गोलाबारी हो रही थी. सना शहर एक तरह से तबाह हो चुका था और चारों तरफ सन्नाटा पसरा था. इसी दरम्यान जनरल वीके सिंह भारतीयों को हवाई जहाज से जिबूति उतारना चाहते थे, जब भारी गोलीबारी की वजह से सना और जिबूती के एयर ट्रैफिक कंट्रोल ने इजाजत नहीं दी थी. उधर, अदन बदंरगाह के पास भारतीय नौसेना के युद्धपोत आईएनएस मुंबई को पहुंचना था, लेकिन अदन बंदरगाह के पास भी भयंकर गोलीबारी चल रही थी. आईएनएस मुंबई बंदरगाह में दाखिल नहीं हो सका. जनरल वीके सिंह ने पहल करके 12 छोटी नौकाओं को किराए पर लिया. छोटी नौकाओं से भारतीयों को युद्धपोत तक ले जाया गया. छोटी नौकाओं के जरिए लोगों को आईएनएस मुंबई तक पहुंचाना बेहद मुश्किल ऑपरेशन था, लेकिन वहां भी जनरल वीके सिंह का फौजी अनुभव काम आया और सैकड़ों लोगों को युद्धपोत तक पहुंचाया जा सका. मुश्किल रेस्क्यु ऑपरेशन देख कर ही अमेरिका ने भी भारत से मदद मांगी थी. अमेरिका ने अपने नागरिकों को यमन से निकालने का अनुरोध किया था. भारत से मदद मांगने वाले देशों की लिस्ट बढ़ती चली गई. यमन की राजधानी में मौजूद अमेरिकी दूतावास से बाकायदा एक इमरजेंसी संदेश निकाला गया. भारत सरकार ने अमेरिकियों को यमन से निकाल कर जिबूती तक पहुंचाया. जबकि अमेरिका का समुद्री बेड़ा अदन की खाड़ी में तैनात था. भारतीय नौसेना के युद्धपोत आईएनएस सुमित्रा से भी यमन में फंसे 348 भारतीयों को जिबूती लाया गया. जहां से वे विमान से भारत लौटे. आईएनएस सुमित्रा समुद्री डाकुओं के खिलाफ अभियान के लिए अदन में ही जूझ रहा था. एयर इंडिया के विमानों से भी 600 नागरिकों को बचाया गया. इसके अलावा रेस्क्यु ऑपरेशन में कुछ अन्य विदेशी एयरलाइंस के विमान भी किराए पर लिए गए थे. दक्षिण सूडान में जारी गृह युद्ध में फंसे सैकड़ों भारतीयों को सुरक्षित निकालने का काम कम मुश्किल का नहीं था. इस ऑपरेशन को पूरा करने के लिए भी विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह दक्षिण सूडान की राजधानी जुबा पहुंच कर डट गए थे. सूडान के रेस्क्यु अभियान को ‘ऑपरेशन संकट मोचन’ नाम दिया गया था. ‘ऑपरेशन संकट मोचन’ का मकसद था दक्षिण सूडान में फंसे सैकड़ों से अधिक भारतीयों को जुबा से सुरक्षित बाहर निकालना. इस अभियान में भारतीय वायुसेना के दो मालवाहक सी-17 विमान का इस्तेमाल किया गया. भारतीय दूतावास के पास सिर्फ तीन सौ भारतीयों ने ही वापसी के लिए अपना रजिस्ट्रेशन कराया था. दक्षिण सूडान के कई हिस्सों में पूर्व विद्रोही और सरकारी सैनिकों के बीच भारी संघर्ष चल रहा था. दक्षिण सूडान में फंसे करीब छह सौ भारतीयों में से 450 के जूबा में और करीब 150 लोगों के राजधानी के बाहर फंसे होने का अनुमान था. युद्ध प्रभावित दक्षिण सूडान की राजधानी जुबा से आखिरकार 156 लोगों को लेकर भारतीय वायु सेना का विमान सी-17 जब थिरुअनंतपुरम पहुंचा तो जिंदाबाद के नारों से आकाश गूंज गया. सुरक्षित आए लोगों में दो नेपाली नागरिक भी शामिल थे. 156 लोगों में नौ महिलाएं और तीन बच्चे भी थे. अन्य यात्रियों को लेकर वह विमान बाद में दिल्ली आया था. जनरल सिंह ने भारत सरकार को रिपोर्ट दी थी कि 156 लोग लाए गए. करीब 40 लोगों ने वाणिज्यिक उड़ानें शुरू होते ही अपना टिकट आरक्षित करा लिया था. तकरीबन तीन सौ लोगों ने अपने कारोबारी कारणों से भारत आने से मना कर दिया. रेस्क्यु में लगा भारतीय वायुसेना का विमान युगांडा होते हुए आया था. वहां जनरल सिंह ने युगांडा के प्रधानमंत्री रूहाकना रूगुन्दा से भी मुलाकात की थी. दक्षिणी सूडान में संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन के तहत भी ढाई हजार भारतीय तैनात हैं. सूडान से सुरक्षित निकल कर लोग जब विमान पर सवार हुए तो खुशी में उन्होंने भारत माता की जय के नारे लगाए. यह ऑपरेशन करीब 30 घंटे तक चला था. भारतीय वायु सेना के कार्गो विमान सी-17 में यात्रियों के बैठने के लिए अलग से सीटें लगाई गई थीं. विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह ने बचाए गए भारतीय परिवारों से भारतीय वायु सेना की खास तौर पर सराहना करने के लिए कहा था. दक्षिणी सूडान से सुरक्षिक निकल कर भारत पहुंची अंजलि अरुण ने कहा भी कि जुबा से निकाल कर लाना मुश्किल अभियान था. वे कहती हैं कि वहां लगातार हो रही गोलीबारी के बीच हमें निकाल कर लाया गया. जय कृष्णन कहते हैं कि वहां के हालात बहुत बुरे थे. फायरिंग के कारण कोई घरों से बाहर झांक भी नहीं रहा था. ऐसे में भारतीयों को बाहर निकाल कर लाया गया. व्यापारी अरुण कहते हैं कि उनका वहां पुराना बिजनेस है, सबकुछ छोड़ कर जा भी नहीं सकते. देखभाल के लिए 10 लोगों को छोड़ कर वे भारत आए हैं.

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…