Skip to main content

सरलता,ईमानदारी एवं त्याग की प्रतिमूर्ति थे डा0रूद्र प्रताप सिंह

पूर्व सांसद डा0 रूद्र प्रताप सिंह का निधन अमेठी- ईमानदार व कर्मठ पूर्व संासद डा0 रूद्रप्रताप सिंह के बीमारी के चलते चलते आकस्मिक निधन से क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गयी। कस्बा व्यापारियों ने दुकाने बंद करके शोक सभा में दो मिनट का मौन रखकर श्रन्द्राजंलि अर्पित की। दशकों तक राजनीति में सक्रिय रहे जामों रियासत के राजा व पूर्व सांसद डा0 रूद्रप्रताप सिंह 80 वर्ष का निधन लखनऊ में एक निजी अस्पताल में भोर सुबह तीन बजे हो गया। ये कुछ समय से बीमार चल रहे थे। उनके निधन की सूचना मिलते ही क्षेत्र में शोक की लहर दौड गई। उनके पैतृक गांव जामों में लोगों सूचना मिलते कस्बा जामों के बाजार की दुकानें एवं स्कूल व कालेज बंद हो गये। निधन की सूचना पर उनके भतीजे प्रतापगढ एमएलसी अक्षय प्रताप सिंह ऊर्फ गोपाल व गौरीगंज विधायक राकेश प्रताप सिंह लखनऊ आवास पहुंच गये। लखनऊ में ही उनकी अंतेष्टि किया गया,उन्हे इकलौते पुत्र रविप्रताप सिंह मुखाग्नि दी । जगदीशपुर विधायक राधेश्याम सहित विशिष्टगण मौजूद रहे।जामों कस्बे के व्यापारियों ने कस्बे में व्यापारमण्डल अध्यक्ष शिवप्रताप मिश्र की अध्यक्षता में दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर नरेन्द्र बहादुर सिंह, सीताराम अग्रहरि, संदीप अग्रहरि, कुलदीप, सुरेन्द्र सिंह, रामकिशुन, रोहित पिन्टू, मिट्ठूप्रेमशंकर पाण्डेय, रामकुबेर,रामयज्ञ यादव मौजूद रहे। सरलता,ईमानदारी एवं त्याग की प्रतिमूर्ति थे डा0रूद्र प्रताप सिंह नीरज सिंह अमेठी- एक राजपरिवार में जन्में डा0 रूद्रप्रताप सिंह सरलता,ईमानदारी व त्यागी पुरूष के रूप में क्षेत्र की जनता जानती थी। उनके पास दिखावा की कोई जगह नही थी। राजनीति में लोकतंत्र के सभी सदनों का प्रतिनिधित्व करने वाले उन्हे जनता कुंवर साहब के नाम से पुकारती थी। उनकी देश में ही नही वरन् अन्तर्राराष्ट्रीय स्तर पर एक अच्छे स्वच्छ छवि व प्रखर वक्ता के रूप में पहचान थी। इनका जन्म 12 मई,1936 को जिले ग्राम जामों में राजा उमारमण प्रताप बहादुर के यहां हुआ था। इनके छोटे भाई लाल शिवप्रताप सिंह थे। जिनके पुत्र अक्षय प्रताप सिंह प्रतापगढ से विधान परिषद के सदस्य हैं।कुबंर साहब का विवाह बहराईच जिले के रेहुआ स्टेट राजकुमारी रूद्र कुमारी से हुआ था। इनके इकलौते पुत्र रविप्रताप सिंह व तीन बेटियां हैं। इन्होनें इलाहाबाद विश्वविद्यालय से बीए,लखनऊ विश्वविद्यालय से एमए करके पी0एच0डी0 की उपाधि ली।इनका राजनीति सफर 1962 में शुरू हुआ,जब गौरा-जामों ( वर्तमान में गौरीगंज विधानसभा )विधानसभा क्षेत्र से निर्वाचित हुए थे। इसके बाद 1967 में प्रतापगढ-सुलतानपुर-बाराबंकी स्थानीय निकाय प्राधिकारी क्षेत्र से विधान परिषद के लिए चुने गये थे। उसके 1971 में बाराबंकी से लोकसभा चुनाव में विजयी होकर संसद में पहुंचे थे। 1977 में जनता लहर के चलते चुनाव हार गये थे। सन् 1980 में उत्तर प्रदेश से राज्य सभा के लिए चुने गये कार्यकाल पूर्ण होने के बाद पुनः 1986 में राज्य सभा के सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए। इसी बीच जनवरी 1984 से दिसम्बर 1985 तक उन्होंने ने उ0प्र0 सहकारी संघ के अध्यक्ष के रूप में अतिरिक्त कार्यभार संभाला। डा0 साहब ने कांग्रेस के प्रति अटूट निष्ठा के साथ और पूर्ब प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी व राजीव गांधी के बेहद करीबी विश्वासपात्र रहे। उन्हे इनकी सरकारों ने अन्तर्राराष्ट्रीय मंचों पर भी भेजा जिसे डा0साहब ने बखूबी निभाया।1971 में संयुक्त राष्ट्र संघ की महासभामें भारत के प्रतिनिधि के रूप में भाग लिया। उन्हे 1976 व 1981 में निर्गुट सम्मेलन में भारत की ओर से प्रतिनिधित्व का मौका मिला। उन्होनें भारत की ओर फ्रांस,इटली ,इंग्लैंड,जर्मनी,कोरिया जापान सहित दर्जनों देश जाकर अन्तर्राराष्ट्रीय सद्भावा एवं िवश्व शांति के लिए यात्रायें की। इन्हंे हिन्दी से अगाध प्रेम था, वे अन्तर्राराष्ट्रीय हिन्दी प्रचार एवं प्रसार समिति के अध्यक्ष भी रहे। कहा जाता है कि नरसिंहा राव सरकार में रक्षा राज्य मंत्री पद से नवाजा जा रहा था लेकिन इन्होनें गांधी परिवार के प्रति लगाव और सक्रिय राजनीति में सोनिया गांधी के ना आने से क्षुब्ध डा0 साहब ने पद लेने से इंकार कर दिया था। राजपरिवार में जन्में होने के बावजूद डा0 साहब की पंक्तियां जोकि संसद में कही थी उनके विचारों से स्पष्ट हो जाता है कि सामंतवाद के कितने खिलाफ थे- जी में आता है कि सूरज, चांद,तारे नोच लूं, सैकडों शोषक हैं नजर के सामने,, बस इतना ही कहना है कि आज हम एक सरल, ईमानदार, स्वच्छ,बेदाग,छबि के राजनीति के पुरोधा को खो दिया जो कि आज की राजनीति में कम ही मिलते

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…