Skip to main content

स्तरहीन पत्रकारिता व व्यवसायीकरण

पत्रकारिता अब सामाजिक सरोकार से दूर हो चली है,ये वो पत्रकारिता  नही रह गई है जो कि समाज को अच्छे बुरे का फर्क समझााने के लिए एक आईना का काम करती थी के परिवेष में आईने में दिखने वाली आकृति धूमिल जरूर दिखने लगी है। हो भी क्यों न अब तो इसका पूर्ण व्यवसायीकरण हो चला है। जब मैं मास काॅम कर रहा था । तो पत्रकारिता के इतिहास के बारे में पढने को मिला तो लगा कि पत्रकार  द्वारा पत्रों को आकार देने का काम नही करते बल्कि एक बडे समाज सुधारक की भूमिका में अपने दायित्व निर्वहन करते हैं। ये सब पढते पढते मैं उन अतीत के लेखनी के शूरबीरों के प्रति नतमस्तक होने के लिए मन व्याकुल हो चलता था। बताया गया कि पत्रकारिता अनेक प्रकार की होती है। उसमें से पीत पत्रकारिता के लिए बचने की सलाह दी जाती है । लेकिन जब हम बडे ही मनोयोग से समाज सेवा व समाज में एक नई भूमिका के निभाने को आतुर हुआ।शुरूआती दिन अच्छे चले लेकिन कुछ दिनों में ही ये आतुरता व पत्रकारिता का वेग थमने लगा और सपनों का ख्याली पुलाव धीरे धीरे कपूर की मानिंद उडने लगा। कलम चलने की शुरूआत से चला सफर धीरे धीरे पत्रकारिता में आये बदलाव के थपेडों का झेलता रहा जोकि बद्दूस्तर जारी है। अब  वास्तविकता ये है कि पत्रकारिता का पूर्ण बाजारीकरण हो गया है। इसके लिए पीत पत्रकारिता का सहारा लेने में गुरेज नही किया जा रहा है। आज के समाज धारणा बदल गई है। कभी पत्रकार को देख उनकी आंखों में श्रद्धा व सम्मान झलकने लगता है। लेकिन अब ऐसा नजारा शायद ही देखने को मिले। हां मै ये भी कहना चाहता हूं कि आज भी ऐसे पत्रकार इस जगत में है कि उनका नाम आते ही लोगों में आदर भाव पैदा कर देते हैं। एक बात और कहना चाहता हूं कि आप पाप से घृणा करो पापी से नही । इसका जिम्मेदार क्षेत्र का वो पत्रकार भी उतना नही है जितना मालिकान हैं। जरा नजर डाले क्षेत्रीय स्तर यानी जिलों पर होने वाली पत्रकारिता पर कि मैं ये देख रहा हूं कि पत्रकारिता की एबीसीडी तक नही आती,शब्दों का ज्ञान नही है फिर भी जिलों में  ब्यूरो प्रमुख बने बैठे हैं। कारण सिर्फ ये है कि बिजनेस देते हैं चैनलों को अखबारों को। एक बार मै देश के जाने माने अखबार के आफिस गया तो मै पूरी तैयारी से गया कि बडा बैनर है संपादक जी क्या पूंछ बैठे तो। जैसे ही अन्दर गया। संपादक जी ने पूछा कि क्या करते हो,और क्या बिजनेस दोगे।मैं तो आवाक रह गया। ये कह कर आपके अनुरूप ही देगे। आज प्रिंट हो या चैनल सभी पर उद्योगपतियों का कब्जा हो चला है जोकि इसी की आड में अपना ऊल्लू सीधा कर रहे हैं और बदनाम हो रहे है पत्रकार, इनका भी शेषड कम नही हो रहा है । दिन रात दौडते है और उन्हे मिलता है चन्द रूपये, जोकि मानदेय के रूप में मिलता है। सरकारें भी इनके लिए कुछ नही कर रही हैं। ये सब कारण भी पत्रकारिता के स्तर को गिराने की जिम्मेदार है। अर्थ से जोडकर कोई काम किया जाता है तो उसमें पारदर्शिता की उम्मीद नही करनी चाहिए।लोकतंत्र का चैथा स्तम्भ होने के चलते लोकतांत्रिक देष में इनकी भूमिका अहम हो जाती है। अगर ये अपनी जिम्मेदारी से मुकरती है,तो सही दिशा देने काम कोन करेगा एक अहम सवाल बन कर खडा होता है। अतः आज जरूरत है कि अखबारों एवं चैनलों के मालिकान ये समझे की हमारी समाज में कितनी अहमियत है। और व्यवसायीकरण को पूरी तरह से पत्रकारिता क्षेत्र में हावी न होने दें। ये सच भी है कि चैनल व अखबार चलाने में करोडों का वारा न्यारा होता है। उसके लिए एक बडी पूंजी की आवश्यकता है।इसलिए व्यवसायीकरण भी जरूरी है, लेकिन इसके साथ इस बात का अवश्य ध्यान देने की जरूरत है कि पत्रकारिता के स्तर का बनाये रखा जाय। जिसकी समाज व देश दोनों को ऐसी स्तरीय पत्रकारिता की आवश्यकता है।

Comments

Popular posts from this blog

भारत की राजनीति में प्रियंका गांधी !

भारतीय राजनीति में कांग्रेस की तरफ से एक और गांधी की एंट्री हुई है ,नाम है प्रियंका गांधी । कभी रिश्तो की डोर लेकर अमेठी की राजनीति में सरगर्मी मचाने वाली कभी मां के चुनाव की कमान संभालती तो कभी भाई राहुल गांधी के चुनाव की कमान संभालने का कार्य प्रियंका गांधी करती थी । प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप से उनका नाता राजनीति से जुड़ा रहा है और अक्सर कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में आने के लिए दबाव बनाया जाता रहा है या फिर मीडिया कि लोग जब पूछते कि आप कब आ रही हैं सक्रिय राजनीति में तब जबाब में बस मुस्कुरा कर आगे निकल जाती थी । आज वही प्रियंका गांधी भाई के साथ कदम से कदम मिलाने की सोच लेकर भारतीय राजनीति में आ चुकी हैं । ऐसा नहीं है कि राजनीति में पहली बार आई हैं, मां और भाई के चुनाव को बखूबी संभालती थी इतना ही नहीं उनकी सीटों के अलावा आसपास के जिलों की सीटों में प्रचार भी किया था।  अब तक कितना डंका इनका बज चुका है यह तो पिछले इतिहास को देख कर ही पता चलता है ।लेकिन एक बात तय है कांग्रेस जिस हाल में आज खड़ी है प्रियंका गांधी कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी…

जवानों की शहादत से घायल कश्मीर

किसी शायर ने कश्मीर की समस्या पर शायराना अंदाज में कहा.... ये मसला दिल का है , हल कर दे इसे मौला। ये दर्द-ए- मोहब्बत भी, कहीं कश्मीर ना बन जाए।। कवि ने इन कविता की लाइनों में कश्मीर के दर्द को बयां किया है कि कश्मीर का मसला ना सुलझने वाला मसला बनकर रह गया है। देश का कभी सिरमौर कहा जाने वाले कश्मीर को आतंक रूपी एक नासूर रोग लग चुका है। देश आजाद होने के बाद कश्मीर का दो भाग हुआ। जिसमें पाकिस्तान वाले हिस्से को पीओके कहा गया यानी कि पाक अधिकृत कश्मीर , वहीं भारतीय हिस्से को कश्मीर कहा गया गया। सरदार पटेल ने सैकड़ों रियासतों का भारत में मिलाया । केवल यही एक इकलौता राज्य रहा जिसे 35 ए, 370 धारा के तहत विशेष दर्जा के साथ भारत मे शामिल किया गया । एक अलग संवैधानिक अधिकार दिया गया । लेकिन यही विशेष अधिकारों का प्रतिफल रहा कि कश्मीर का एक तबका धीरे-धीरे इसे अपना सर्वोच्च अधिकार मानने लगा और इसी का परिणाम हुआ कश्मीर में एक अलग गुट उभर कर आया। जिसे अलगाववादी गुट कहा जाता है । अगर इस गुट को को पाक परस्त गुट कहा जाए तो अशियोक्ति नहीं होगी। देश व प्रदेश की सरकारों की नीतियों पर भी कश्मी…

सावधान! होली का रंग, ना हो जाए बदरंग

मौज मस्ती का त्यौहार होली को लेकर बच्चे या युवा या फिर हो बूढ़े सब पर एक ही रंग चढ़ा रंग चढ़ा होता है वह है मस्ती इस त्यौहार को लेकर लोगों में विशेषकर युवाओं बच्चों में उमंग व में उमंग व उत्साह देखते ही बनता है। होली के दिन रंगोली की तरह रंगा हुआ होता है। लेकिन जिन रंगों का हम प्रयोग प्रयोग करते हैं । उसको लेकर क्या हम सोचते हैं कि यह रंग हमारे शरीर को कितना नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। नहीं इसका अनुमान लोगों को कम ही रहता है। इसलिए इन रासायनिक रंगों से बचने की आवश्यकता है। क्योंकि यह जितना ही हानिकारक होता है , उतना ही प्राकृतिक रंग हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसलिए रासायनिक रंगों के प्रति सावधानी बरतना अति आवश्यक है । जहां एक तरफ फलों सब्जियों व फलों के रंग सेहत के के लिए लाभकारी होते हैं । वहीं रासायनिक रंग सेहत के लिए परेशानी का सबब बन जाते हैं । क्या हैं प्राकृतिक रंगों से स्वास्थ्य के लिए लाभ अब हम बात करते हैं प्राकृतिक रंगों की जिसमें काले रंग के लिए जामुन काला अंगूर अंगूर रसभरी मुनक्का आलूबुखारा आदि में पाए जाते हैं । जो शरीर को लाभ देने का कार्य करते हैं। फल…