Skip to main content

कासगंज की घटना देश के लिए अच्छा संकेत नहीं!


‌देश में जब हम 69वां गणतंत्र धूमधाम से समूचे भारत में मनाया जा रहा था कि ठीक उसी समय उत्तर प्रदेश के कासगंज में एक ऐसी घटना घटी जिसने पूरे देश को हिला कर रख दिया । जब देश में जिस दिन से कानून का राज्य कायम हुआ यानी संविधान लागू हुआ था। ठीक इसी दिन यानी 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर कुछ युवाओं ने तिरंगे को लेकर कासगंज में एक यात्रा निकाली । इस तिरंगा यात्रा में जोश से वन्देमातरम् ,जय हिन्द,भारत माता के नारे लगाते शहर की गलियों में घूम रहे थे । उन्हें क्या पता था कि देश के दुश्मन भी इन्ही गलियों में रहते हैं। जैसे ही वे सभी तिरंगा यात्रा लेकर एक विशेष समुदाय के मुहल्ले के पास से गुजर रहे थे कि उन पर ईंट-पत्थरों से हमला बोल दिया ,जब इससे जी नही भरा तो फायरिंग भी शुरू कर दी जिसमें एक युवा अभिषेक गुप्ता उर्फ चन्दन की गोली लगने से मौत हो गई। वहीं दूसरे घायल युवक रोहित की इलाज के दौरान मौत हो गई। गणतंत्र दिवस मनाते हुए इनकी मौत शहीद से कमतर कतई नही है। इस घटना ने प्रदेश ही नही पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है।  इस घटना से कई अहम् सवाल उठ रहे हैं। एक लोकतांत्रिक देश में  देश भावना को दबाने का प्रयास किया जाना, राष्ट्रगान व राष्ट्रीय गीत का विरोध, राष्ट्रीय ध्वज के फहराये जाने पर विवाद, अभिव्यक्ति की आजादी के बहाने देश के खिलाफ जहर उगलना एक चलन बन गया है।  ये सारी बातें एक लोकतांत्रिक देश के लिए किसी अभिशाप से कम नही है। धर्म ,जाति के नाम बांटने का कार्य वोट के सौदागर कोई कसर नही छोड़ रहे हैं। कभी जेएनयू, तो कभी हैदराबाद या फिर कश्मीर में देश विरोधी क्रियाकलापों से भारत माँ को घाव दिए हैं। लेकिन अब तो हद हो गई है कासगंज की घटना से कि हम अपने ही देश में वन्देमातरम का उद्दघोष भी कहना जुर्म हो गया है। गोलियों से मार दिया जा रहा है यही सहिष्णुता है क्या! राजनीति के ठेकेदारों के मुँह सिल गए हैं। संविधान बचाने वाले का नारा देने वाले मुम्बई की सड़कों पर पदयात्रा करने वाले धर्मनिरपेक्ष का चोला पहनने वाले इन तथाकथित नेताओं इस कांड को लेकर गूंगेबहरे बन गए हैं। इन्हें इन दोनों युवकों की मौत नही दिख रही है। अब संविधान दिवस को मनाने वाले की हत्या होना क्या लोकतंत्र पर हमला नही है! कासगंज की घटना एक आम घटना नही है।  दंगे होते है मारपीट या फिर हत्या होना अलग बात है,परन्तु ये घटना उस समय हुई जब देश में गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा था, ठीक उसी समय  वन्देमातरम कहना मौत का कारण बनना देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए एक बड़ा खतरा बनता जा रहा है। देश के कर्णधारों को सिर्फ वोट चाहिए ,देश का भविष्य सुरक्षित रहे या न रहे उन्हें इसका क्या फर्क उन्हें तो अपनी राजनीति चमकाने से मतलब है। ओवैसी  जैसे नेता युवाओं में कुंठित मानसिकता भर कर  देश को बांटने व कमजोर करने का काम कर रहे हैं। अगर ऐसे नेताओं तुष्टीकरण की राजनीति से नही रोका गया , तो देश का भविष्य अंधकार में ठेलने का कार्य करेंगे। और कासगंज जैसी घटना होती रहेगी। 

@NEERAJ SINGH

Comments

Popular posts from this blog

प्रिय पाठकों होली की शुभकामनाएं.....

राजनीति के मंच पर छन रहे सियासी पकौड़े

‌आजकल देश में समस्याओं को दरकिनार कर राजनीतिक दल पकौड़े के पीछे  चुके हैं। सोशल साइट पर इसे लेकर कोहराम मचा है,कि मोदी जी ने ये कह डाला देश का युवा बेरोजगार पकौड़ा बेचे, घोर अपमान । इतना ही नही विभिन्न दल के नेता पकौड़ा तलते नजर आ रहे हैं। अब बात करें कि ये बात किधर से आई!  विगत 19 जनवरी को देश के एक बड़े चैनल में इंटरव्यू के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बहुत से बेरोजगार लोगों को बैंक से ऋण दिया गया है , जिससे वे अपना छोटा मोटा व्यवसाय खोल सकें। उदाहरण के रूप में चाय व पकौड़े की दुकान खोलने की बात कही, जिससे अपना जीवन यापन कर सके। फिर क्या था विपक्षी राजनीतिक दलों के भी पकौड़े  छनने लगे। इसे तो मुद्दा ही बना दिया गया और युवाओं से जोड़ दिया । कांग्रेस हो या फिर समाजवादी पार्टी के नेता आजकल सड़कों पर उतर कर पकौड़ा तलने  में जुट गए हैं । इनका मानना है कि देश के बेरोजगारों को पकौड़े बनाने की सलाह देकर उनका मोदी जी ने अपमान किया है। ये तो हुई राजनीति की बातें । मोदी जी के बयान के मायने चाहे जितने लगाये जा रहे हों,लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि आज भी देश में लाखों…

दुश्मनों पर रहम का अनर्गल प्रलाप क्यों .....!

कश्मीर को आतंकी पंजे से मुक्त करने में लगे सेना के जवानों की मुहिम रंग लाने लगी है। कश्मीर की जम्हूरियत को शांति का सकून दिलाने की ओर अग्रसर भारतीय फौज के जवानों के मनोबल तोड़ने की साजिश के तहत प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती का बयान आया है। उनका कहना है कि जिस प्रकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी रमजान के मौके पर सीजफायर का ऐलान किया था उसी तर्ज पर इस बार भी रमजान के मौके पर आतंकियों के खिलाफ चल रहे मुहिम को रोक दिया जाना चाहिए। ये बयान कहाँ तक उचित है कि जो गलती पिछली सरकारों की हैं, उसी गलती को पुनः दोहराना कितना सही है,बजाय सबक लेने के! जब बाजपेयी सरकार ने सीजफायर करने का ऐलान किया था ,ठीक उसी दरम्यां जमकर सीजफायर का उलंघन आतंकी गतिविधियों में इजाफा भी हुआ था। एक बार फिर वही गलती दोहराने के संबंध में महबूबा मुफ़्ती का बयान नाकाबिले तारीफ है। अब जब कि घाटी में सेना की आतंक़ियों के खिलाफ चल रही ताबड़तोड़ एनकॉउंटर की कार्यवाही दहशतगर्दी की कमर तोड़कर रख दिया है। घाटी में बुरहान वानी से लेकर अनेक कमांडर सेना व पुलिस की  कार्यवाही में मारे जा चुके हैं। लेकिन रमजान के पाक महीने से…