Skip to main content

ये सन्नाटा क्यूँ है भाई............


आप सभी इस डायलॉग से परचित अवश्य होंगे क्यों की ये डायलॉग मशहूर फ़िल्म शोले का है। ये आज की राजनीतिक माहौल में सटीक बैठ रहा है। ममता दीदी के आज दिये बयान ने धर्मनिरपेक्ष का ढोंग रचने वाले नेताओं में इस विवादित बयान ने सन्नाटा  फैला दिया है । सब इसे लेकर गूँगे बन गए हैं। ममता ने दुर्गा पूजा व मोहर्रम के एक साथ पड़ने पर लाइन ऑडर की दुहाई देकर एक दिन यानी 01 अक्टूबर के दिन मूर्ति विसर्जन पर पूरे बंगाल में रोक लगा दी है। कोई सेक्युलर नेता ममता सरकार के घटिया निर्णय का विरोध करने हिमाकत  कर नही पा रहा है। क्योंकि कही विशेष समुदाय नाराज न हो जाये। इतना ही नही ममता के धुर विरोधी वामपंथी भी विरोध के बजाय हाँ में हाँ मिलाते tv चैनलों के डिवेट में दिख जायेंगे क्योंकि मामला अल्पसंख्यक समुदाय से जुड़ा है।  ममता दीदी के इस राजनीति को देख यही लगता है कि उनकी सरकार सिर्फ मुस्लिम समुदाय के लिए ही बनी है। बाकी बंगाली जनता के लिए उनकी सरकार में कोई जगह नही है। माँ,मानुष व माटी का नारा शायद ममता सरकार भूल चुकी हैं।  जिस प्रकार एक विशेष धर्म की भावनाओं के लिए बहुसंख्यक समुदाय की भावनाओं हहत किया जा रहा है। आदिकाल से आ रही परम्परा को रोक कर ममता क्या सन्देश देना चाह रही हैं ,ये समझ से परे है। इससे पहले भी 1982 व 1983 में भी विजयदशमी व मोहर्रम एक साथ पड़ चुका है। तब तो कोई लाइन आर्डर नही बिगड़ा ,और अब बिगड़ जायेगा ,आखिर क्यों ! पुलिस प्रशासन क्या करेगा ,उसका क्या काम है। क्या वो भी ममता दी के साथ मातम ही मनाता रह जायेगा। कुछ तो शर्म करो ममता दीदी,आप तो सारे बंगाल की मुख्यमंत्री को न कि सम्प्रदाय विशेष का ।  तृणमूल सरकार के ऐसे कई फैसले पर कोर्ट तक को हस्तक्षेप करना पड़ा। दुर्गा पांडाल न लगाने, मौलाना-मुफ़्ती को मानदेय जैसे फैसलों पर कोर्ट ने हस्तक्षेप किया था । एक बार फिर ये मामला कोर्ट में जा रहा है।  इससे तो अच्छा है कि जनता सरकार के अदूरदर्शी फैसले झेलने के बजाए कोर्ट को अपना सरकार न मान लें।  अनेक जिलों में दुर्गा प्रतिमा स्थापित इसलिये नही करने दिया जा रहा है कि वहाँ मुस्लिम आबादी है ,उन्हें परेशानी होगी। कानून व्यवस्था ख़राब होने की आशंका कारण बताया गया और वर्षों से पूजा नही हो रही है। वो भी वहाँ जिस गाँव में सैकड़ों घर में चार-पांच घर ही हिंदुओं के जोकि वहां मिलजुल कर रहते हैं। कौन समझाये ममता दीदी को यहाँ कौन सा दंगा फसाद हो जायेगा! राजनीति की तुष्टीकरण नीति ने ही कांग्रेस का ये हाल हुआ है । फिर भी इन सेक्युलर नेताओं की आदत सुधर नहीं रही है। कांग्रेस की गति से ममता भी सबक नही ले रही हैं। कोई भी नेता व दल तुष्टीकरण की नीति से जनता व देश दोनों का भला नही कर सकता है,और न खुद का भला होगा। ममता जी ओछी हरकतों से सरकार नही चलती है। किसी धर्म की भावनाओं को आहत न करो वरना धरती पर पटकने में देर नही लगाएगी । सेकुलरों की तो आदत ही है कि वोट के लिए अल्पसंख्यक के मामले में चुप्पी साधना ही उनके हित में होता है।इसलिए तो कहते हैं की राजनीति के गलियारे में .......ये सन्नाटा क्यूँ है भाई.......।
@नीरज सिंह

Comments

Popular posts from this blog

प्रिय पाठकों होली की शुभकामनाएं.....

राजनीति के मंच पर छन रहे सियासी पकौड़े

‌आजकल देश में समस्याओं को दरकिनार कर राजनीतिक दल पकौड़े के पीछे  चुके हैं। सोशल साइट पर इसे लेकर कोहराम मचा है,कि मोदी जी ने ये कह डाला देश का युवा बेरोजगार पकौड़ा बेचे, घोर अपमान । इतना ही नही विभिन्न दल के नेता पकौड़ा तलते नजर आ रहे हैं। अब बात करें कि ये बात किधर से आई!  विगत 19 जनवरी को देश के एक बड़े चैनल में इंटरव्यू के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बहुत से बेरोजगार लोगों को बैंक से ऋण दिया गया है , जिससे वे अपना छोटा मोटा व्यवसाय खोल सकें। उदाहरण के रूप में चाय व पकौड़े की दुकान खोलने की बात कही, जिससे अपना जीवन यापन कर सके। फिर क्या था विपक्षी राजनीतिक दलों के भी पकौड़े  छनने लगे। इसे तो मुद्दा ही बना दिया गया और युवाओं से जोड़ दिया । कांग्रेस हो या फिर समाजवादी पार्टी के नेता आजकल सड़कों पर उतर कर पकौड़ा तलने  में जुट गए हैं । इनका मानना है कि देश के बेरोजगारों को पकौड़े बनाने की सलाह देकर उनका मोदी जी ने अपमान किया है। ये तो हुई राजनीति की बातें । मोदी जी के बयान के मायने चाहे जितने लगाये जा रहे हों,लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि आज भी देश में लाखों…

दुश्मनों पर रहम का अनर्गल प्रलाप क्यों .....!

कश्मीर को आतंकी पंजे से मुक्त करने में लगे सेना के जवानों की मुहिम रंग लाने लगी है। कश्मीर की जम्हूरियत को शांति का सकून दिलाने की ओर अग्रसर भारतीय फौज के जवानों के मनोबल तोड़ने की साजिश के तहत प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती का बयान आया है। उनका कहना है कि जिस प्रकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी रमजान के मौके पर सीजफायर का ऐलान किया था उसी तर्ज पर इस बार भी रमजान के मौके पर आतंकियों के खिलाफ चल रहे मुहिम को रोक दिया जाना चाहिए। ये बयान कहाँ तक उचित है कि जो गलती पिछली सरकारों की हैं, उसी गलती को पुनः दोहराना कितना सही है,बजाय सबक लेने के! जब बाजपेयी सरकार ने सीजफायर करने का ऐलान किया था ,ठीक उसी दरम्यां जमकर सीजफायर का उलंघन आतंकी गतिविधियों में इजाफा भी हुआ था। एक बार फिर वही गलती दोहराने के संबंध में महबूबा मुफ़्ती का बयान नाकाबिले तारीफ है। अब जब कि घाटी में सेना की आतंक़ियों के खिलाफ चल रही ताबड़तोड़ एनकॉउंटर की कार्यवाही दहशतगर्दी की कमर तोड़कर रख दिया है। घाटी में बुरहान वानी से लेकर अनेक कमांडर सेना व पुलिस की  कार्यवाही में मारे जा चुके हैं। लेकिन रमजान के पाक महीने से…