Skip to main content

पर्यावरण दिवस पर विशेष****

आज एक बार फिर हम विश्व पर्यावरण दिवस मना रहे हैं, कभी सोचा है कि पर्यावरण के लिए क्या कर रहे हैं , क्यों मना रहे हैं,क्या करना चाहिए और इसका हमारे जीवन में क्या महत्व है। बहुत सारे सवाल उठते हैं। आइए हम इस पर चर्चा करते हैं । पर्यावरण से जीवन की भी डोर जुडी हुई है,पर्यावरण जीवों के आवरण के रूप में होता है ।जोकि जीवों को सुरक्षा देने का कार्य करता है,इसमें वनों की महती भूमिका रहती है। एक रिपोर्ट के अनुसार पृथ्वी पर 9.1% बन हैं, जबकि भूमि में लगभग 22%है जो अब 19 % के आसपास आ गई है।भारत में भी 2.79 लाख हेक्टेयर वन विकास की आहुति में चढ़ गया । जब की राष्ट्रीय वन नीति के अनुसार करीब 33%वैन क्षेत्र होना आवश्यक है ,जिससे पर्यावरण संतुलन बना रहना आवश्यक है। जबकि भारत में 23%ही वनभूमि बची है जोकि चिंता का विषय है। पृथ्वी पर हो रहे असुंतलन से सबसे बडा खतरा मानव जाती के लिए ही है।दिनोदिन भूजल स्तर गिरता जा रहा है। वन विकास भेंट चढ़ रहा है। सबसे खराब हालात शहरों की है । जहाँ हरियाली के नाम पर कुछ रह ही नही जा रहा है,ग्रामीणों की हालत तब भी बेहतर है। गंदे नालों से बहने वाले पानी नदियों को प्रदूषित कर रहे हैं। फैक्ट्री से निकलने वाले धुंए से वायुमंडल को प्रदूषित किया जा रहा है। अगर बात करें पर्यावरण असुंतल की तो सभी राष्ट्र परेशान हैं । इसे लेकर ब्राजील में बैठक कर चुके हैं और परमाणु ऊर्जा में कटौती की आश्वासन दिया था। जिससे ओजोन की परत को बचाया जा सके। लेकिन इसे लेकर बड़े राष्ट्र इसे उतनी गंभीरता से नही ले रहे जितनी लेना चाहिए था। इराक व सीरिया में हुए युद्धों में पर्यावरण को भारी असुंतलन का सामना करना पड़ा है।जिससे जीवों पर भी बड़ा असर हुआ है। उत्तर कोरिया के लगातार हो रहे मिसाइल परीक्षणों से पूर्वी देशों जापान, द0कोरिया आदि में पर्यावरण प्रदूषण बढ़ गया है। पर्वतीय भूभागों के वन लगातार कटने से मौसम में भी परिवर्तन होने लगा है। इन क्षेत्रों में बादल फटने,भूस्खलन,बाढ़ जैसी तबाही आये दिन देखने को मिल रही है। तापमान में भी असुंतलन हो रहा है।अब 47डिग्री से 48 डिग्री पारा चढ़ने लगा है।इन सभी कारण पर्यावरण असंतुलन है। आज हम पर्यावरण दिवस मन रहे है,वही अपने देश भारत के जम्मू के जंगलों में भीषण आग लगी है ,जिससे 50 हेक्टेयर से भी अधिक वन भूमि को आग ने स्वाहा कर चुकी है अभी आग काबू में नही है। आखिर ये क्या है प्रदूषण ही हो रहा है। यही हाल रहा तो आने वाले समय में मानव जीवन का पृथ्वी पर विनाश तय है। तरह तरह की बीमारियों से ग्रसित हो कर मरेंगे। इस लिए अगर आप को अपनी व आने वाली पीढ़ी को स्वस्थ व सुरक्षित रखना है तो संकल्प लें कि पर्यावरण को साफ सुथरा रखेंगे और एक पेड़ अवश्य लगायेंगे। @नीरज सिंह

Comments

Popular posts from this blog

प्रिय पाठकों होली की शुभकामनाएं.....

राजनीति के मंच पर छन रहे सियासी पकौड़े

‌आजकल देश में समस्याओं को दरकिनार कर राजनीतिक दल पकौड़े के पीछे  चुके हैं। सोशल साइट पर इसे लेकर कोहराम मचा है,कि मोदी जी ने ये कह डाला देश का युवा बेरोजगार पकौड़ा बेचे, घोर अपमान । इतना ही नही विभिन्न दल के नेता पकौड़ा तलते नजर आ रहे हैं। अब बात करें कि ये बात किधर से आई!  विगत 19 जनवरी को देश के एक बड़े चैनल में इंटरव्यू के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बहुत से बेरोजगार लोगों को बैंक से ऋण दिया गया है , जिससे वे अपना छोटा मोटा व्यवसाय खोल सकें। उदाहरण के रूप में चाय व पकौड़े की दुकान खोलने की बात कही, जिससे अपना जीवन यापन कर सके। फिर क्या था विपक्षी राजनीतिक दलों के भी पकौड़े  छनने लगे। इसे तो मुद्दा ही बना दिया गया और युवाओं से जोड़ दिया । कांग्रेस हो या फिर समाजवादी पार्टी के नेता आजकल सड़कों पर उतर कर पकौड़ा तलने  में जुट गए हैं । इनका मानना है कि देश के बेरोजगारों को पकौड़े बनाने की सलाह देकर उनका मोदी जी ने अपमान किया है। ये तो हुई राजनीति की बातें । मोदी जी के बयान के मायने चाहे जितने लगाये जा रहे हों,लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि आज भी देश में लाखों…

दुश्मनों पर रहम का अनर्गल प्रलाप क्यों .....!

कश्मीर को आतंकी पंजे से मुक्त करने में लगे सेना के जवानों की मुहिम रंग लाने लगी है। कश्मीर की जम्हूरियत को शांति का सकून दिलाने की ओर अग्रसर भारतीय फौज के जवानों के मनोबल तोड़ने की साजिश के तहत प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती का बयान आया है। उनका कहना है कि जिस प्रकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी रमजान के मौके पर सीजफायर का ऐलान किया था उसी तर्ज पर इस बार भी रमजान के मौके पर आतंकियों के खिलाफ चल रहे मुहिम को रोक दिया जाना चाहिए। ये बयान कहाँ तक उचित है कि जो गलती पिछली सरकारों की हैं, उसी गलती को पुनः दोहराना कितना सही है,बजाय सबक लेने के! जब बाजपेयी सरकार ने सीजफायर करने का ऐलान किया था ,ठीक उसी दरम्यां जमकर सीजफायर का उलंघन आतंकी गतिविधियों में इजाफा भी हुआ था। एक बार फिर वही गलती दोहराने के संबंध में महबूबा मुफ़्ती का बयान नाकाबिले तारीफ है। अब जब कि घाटी में सेना की आतंक़ियों के खिलाफ चल रही ताबड़तोड़ एनकॉउंटर की कार्यवाही दहशतगर्दी की कमर तोड़कर रख दिया है। घाटी में बुरहान वानी से लेकर अनेक कमांडर सेना व पुलिस की  कार्यवाही में मारे जा चुके हैं। लेकिन रमजान के पाक महीने से…