Skip to main content

अभिव्यक्ति की आजादी, देश के लिए बन रहा नासूर !

@नीरज सिंह सभी धर्मों को बराबरी का दर्जा देने के साथ ही भारतीयों को हमारे संविधान में मूल अधिकार की चर्चा की गई है । संविधान के तीसरे पार्ट के अनुच्छेद 12 से 35 तक मानव को मूल अधिकार दिए गए हैं। जिसमें जीने का अधिकार, संविदा अधिकार,धर्म,भाषा आदि अधिकार मिले हैं। इन्हीं में अनुच्छेद19 में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता भारत की जनता को मिली है।कोई भी अपनी बात कहने का अधिकार संविधान ने इसके तहत भारतीयों को दे रखा है।लेकिन अब इस स्वतंत्रता को दुरुपयोग कुछ अधिक ही हो गया है। अब तो लोग अनाप शनाप बातें कर रहे हैं।इससे देश की अस्मित्ता पर भी ऊँगली उठती हैं। जिसका फायदा देशद्रोही मानसिकता वाले ही उठा रहे हैं। जवाहर विश्विद्यालय में जिस प्रकार कैम्पस में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाया जाना, देश को शर्मसार करने का प्रयास किया गया है।कश्मीर में बैठे नुमाइंदे भी अभिव्यक्ति की आजादी के आड़ में देश विरोधी जहर उलगा जा रहा है। चंद राजनीतिक लाभ के लिये जाने माने देश के कर्णधारों की जबान जानबूझकर फिसलने लगती है या अनजाने में! इन बयानों से पाकिस्तान व आतंकियों दोनों को बल मिलता है और देश विरोधी गतिविधियों में सक्रियता बढ़ने लगती है।इतना ही नहीं पाकिस्तान के विश्व में कश्मीर को लेकर चल रहे झूठे प्रपंच को बढ़ावा व पुष्टि होने संकेत मिलते हैं, जोकि देशहित में नही होता है। अमेरिका जैसे लोकतांत्रिक देश में भी देशहित के अतिरिक्त कोई भी बयान बर्दाश्त नही करता है,तो हम क्यों मौलिक अधिकार के नाम पर देश के दुश्मनों के पक्ष में बयानबाजी बर्दाश्त कर रहे हैं।बुरहान वानी, अफजल गुरु,आतंकियों व नक्सलियों के पक्ष में कसीदे पढ़ते हैं,वहीं पत्थरबाजों की भीड़ से अपने सैनिकों को बिना रक्तपात के निकालने मेजर नितिन गोगोई इन आलोचकों के लिए दोषी बन गया। हद हो गई है ऐसे राष्ट्र विरोधी बयानबाजी से , अगर समय रहते सरकारें इन पर लगाम नही लगाती हैं,और अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता की दुहाई देती रही तो देश के हालात बेकाबू होना तय है। देश धीरे धीरे कमजोर होता चला जायेगा। ऐसे बयानबाजों पर नकेल कसते हुए इन पर राष्ट्र द्रोह का मुकदमा दर्ज कर जेल की सलाखों के पीछे रखने का कार्य हो। इनके चिंतकों की चिंतनशीलता को रोकने की जरूरत हैं ,क्योंकि इनके चिंतन में अमृत नहीं, जहर रूपी आतंकवाद का विष निकलता है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का मतलब ये नही कि आप किसी को भी गाली देने लगे, राष्ट्र की विचारधारा से ऊपर हो जाए। अगर ये अभिव्यक्ति की आजादी है , तो देश की अखण्डता ,शान्ति भगवान भरोसे ही होगी। ‌

Comments

Popular posts from this blog

प्रिय पाठकों होली की शुभकामनाएं.....

राजनीति के मंच पर छन रहे सियासी पकौड़े

‌आजकल देश में समस्याओं को दरकिनार कर राजनीतिक दल पकौड़े के पीछे  चुके हैं। सोशल साइट पर इसे लेकर कोहराम मचा है,कि मोदी जी ने ये कह डाला देश का युवा बेरोजगार पकौड़ा बेचे, घोर अपमान । इतना ही नही विभिन्न दल के नेता पकौड़ा तलते नजर आ रहे हैं। अब बात करें कि ये बात किधर से आई!  विगत 19 जनवरी को देश के एक बड़े चैनल में इंटरव्यू के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बहुत से बेरोजगार लोगों को बैंक से ऋण दिया गया है , जिससे वे अपना छोटा मोटा व्यवसाय खोल सकें। उदाहरण के रूप में चाय व पकौड़े की दुकान खोलने की बात कही, जिससे अपना जीवन यापन कर सके। फिर क्या था विपक्षी राजनीतिक दलों के भी पकौड़े  छनने लगे। इसे तो मुद्दा ही बना दिया गया और युवाओं से जोड़ दिया । कांग्रेस हो या फिर समाजवादी पार्टी के नेता आजकल सड़कों पर उतर कर पकौड़ा तलने  में जुट गए हैं । इनका मानना है कि देश के बेरोजगारों को पकौड़े बनाने की सलाह देकर उनका मोदी जी ने अपमान किया है। ये तो हुई राजनीति की बातें । मोदी जी के बयान के मायने चाहे जितने लगाये जा रहे हों,लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि आज भी देश में लाखों…

दुश्मनों पर रहम का अनर्गल प्रलाप क्यों .....!

कश्मीर को आतंकी पंजे से मुक्त करने में लगे सेना के जवानों की मुहिम रंग लाने लगी है। कश्मीर की जम्हूरियत को शांति का सकून दिलाने की ओर अग्रसर भारतीय फौज के जवानों के मनोबल तोड़ने की साजिश के तहत प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती का बयान आया है। उनका कहना है कि जिस प्रकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी रमजान के मौके पर सीजफायर का ऐलान किया था उसी तर्ज पर इस बार भी रमजान के मौके पर आतंकियों के खिलाफ चल रहे मुहिम को रोक दिया जाना चाहिए। ये बयान कहाँ तक उचित है कि जो गलती पिछली सरकारों की हैं, उसी गलती को पुनः दोहराना कितना सही है,बजाय सबक लेने के! जब बाजपेयी सरकार ने सीजफायर करने का ऐलान किया था ,ठीक उसी दरम्यां जमकर सीजफायर का उलंघन आतंकी गतिविधियों में इजाफा भी हुआ था। एक बार फिर वही गलती दोहराने के संबंध में महबूबा मुफ़्ती का बयान नाकाबिले तारीफ है। अब जब कि घाटी में सेना की आतंक़ियों के खिलाफ चल रही ताबड़तोड़ एनकॉउंटर की कार्यवाही दहशतगर्दी की कमर तोड़कर रख दिया है। घाटी में बुरहान वानी से लेकर अनेक कमांडर सेना व पुलिस की  कार्यवाही में मारे जा चुके हैं। लेकिन रमजान के पाक महीने से…