Skip to main content

विश्व हिन्दी दिवस पर विशेष.......हम और हमारी राजभाषा हिन्दी

नीरज सिंह एक बार फिर हम सभी को विश्व हिन्दी दिवस मनाने का अवसर मिल रहा है। आज फिर बात होगी सिर्फ हिन्दी के उत्थान की, उनके गौरवमयी इतिहास की, सरल व मिठास से ओत प्रोत मातृभाषा हिन्दी की बात करेंगे। गोष्ठियां आयोजित कर बडे बडे लच्छेदार भाषणों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने का कार्य करते है। इस सब के उपरान्त एक वर्ष के लिए अपनी मातृभाषा के बारे बात करना भूल जाते है। और आने वाले 14 सितम्बर को फिर वही सब बाते करते हैं। एक अरब से अधिक की आबादी में हिन्दी बोली जाने वाली हमारी राज भाषा अपनी पहचान बनाये रखने के लिए संर्घषरत हो , इससे दुःखद बात क्या हो सकती है। विश्व के बहुत से देशों में हिन्दी बोली जा रही है। लेकिन दुःख की बात है कि अपने ही भूमि पर हिन्दी का दायरा सिमटने लगेगा तो आगे क्या होगा! अंग्रेज तो चले ंअग्रेजियत छोड गये हैं। कहते हैं कि गुलामी से आजादी देश को मिल गई लेकिन मेरी समझ से वे जाते जाते भाषा की हथकडी जरूर पहना गये । हम हिन्दी नहीं हिन्गलिश बोलने लगे हैं। अब हाल ये है कि गोष्ठियों में हिन्दी के लेकर बडे बडे व्याख्यान देने वाले अपने ही बच्चों को इंग्लिश मीडियम के स्कूल में भेज रहे हैं। घर पर बच्चे अंग्रेजी में बात करते हैं तो मां बाप का सीना तन जाता है। इंग्लिश मीडियम में बच्चों को पढाना अब समाज स्टेटस बन गया है। हिन्दी में बात करना तौहीन की बात है। लेकिन आपको विदेश में रहने वाले अप्रवासी मित्र की बात बताता हूं। उन्से जब पूछा कि आप तो विदेश में रहते हो तो इंग्लिश में ही घर पर परिवार वालों से बात होती होगी,बच्चे हिन्दी थोडे बोल पाते होगें! उन्होंने ने जो उत्तर दिया हम आवाक रह गये । हम सभी बाहर रहते हैं तो वहां के लोगों से अंग्रेजी के माध्यम से बात होती है। लेकिन अपने घर पर केवल हिन्दी ही बोलते हैं, इतना ही नही हमारे आस पास रहने वाली हिन्दी भाषी अप्रवासी परिवार आपस में मिलते हैं तो हिन्दी में ही बात करते हैं। भारत के बाहर भी हमारे अप्रवासी भारतीय विदेशों में भी हिन्दी का अलख जगाकर रखी है। ये हमारे देश के लिए गौरव की बात है। हमें भी हिन्दी के जागरूक रहना चाहिए और आने वाली पीढियों को भी हिन्दी का ज्ञान करायें। जोकि हमारे देश की मातृभाषा है। अन्त में सभी हिन्दी बोलने वालों को विश्व हिन्दी दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं। बन्दना शर्मा की कबिता ने आज के हिन्दी को लेकर बना परिबेश का चित्रण बडी सुन्दरता से किया है ……. याद आता है बस हिन्दी बचाओं अभियान क्यों भूल जाते है हम हिन्दी को अपमानित करते है खुद हिन्दुस्तानी इंसान क्यों बस 14 सितम्बर को ही हिन्दी में भाषण देते है हमारे नेता महान क्यों बाद में समझते है अपना हिन्दी बोलने में अपमान क्यों समझते है सब अंग्रेजी बोलने में खुद को महान भूल गये हम क्यों इसी अंग्रेजी ने बनाया था हमें वर्षों पहले गुलाम आज उन्हीं की भाषा को क्यों करते है हम शत् शत् प्रणाम अरे ओ खोये हुये भारतीय इंसान अब तो जगाओ अपना सोया हुआ स्वाभिमान उठे खडे हो करें मिलकर प्रयास हम दिलाये अपनी मातृभाषा को हम अन्तरार्ष्टृीय पहचान ताकि कहे फिर से हम हिन्दी.हिन्दु.हिन्दुस्तानए कहते हैए सब सीना तानए … वन्दना शर्मा

Comments

Popular posts from this blog

प्रिय पाठकों होली की शुभकामनाएं.....

राजनीति के मंच पर छन रहे सियासी पकौड़े

‌आजकल देश में समस्याओं को दरकिनार कर राजनीतिक दल पकौड़े के पीछे  चुके हैं। सोशल साइट पर इसे लेकर कोहराम मचा है,कि मोदी जी ने ये कह डाला देश का युवा बेरोजगार पकौड़ा बेचे, घोर अपमान । इतना ही नही विभिन्न दल के नेता पकौड़ा तलते नजर आ रहे हैं। अब बात करें कि ये बात किधर से आई!  विगत 19 जनवरी को देश के एक बड़े चैनल में इंटरव्यू के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बहुत से बेरोजगार लोगों को बैंक से ऋण दिया गया है , जिससे वे अपना छोटा मोटा व्यवसाय खोल सकें। उदाहरण के रूप में चाय व पकौड़े की दुकान खोलने की बात कही, जिससे अपना जीवन यापन कर सके। फिर क्या था विपक्षी राजनीतिक दलों के भी पकौड़े  छनने लगे। इसे तो मुद्दा ही बना दिया गया और युवाओं से जोड़ दिया । कांग्रेस हो या फिर समाजवादी पार्टी के नेता आजकल सड़कों पर उतर कर पकौड़ा तलने  में जुट गए हैं । इनका मानना है कि देश के बेरोजगारों को पकौड़े बनाने की सलाह देकर उनका मोदी जी ने अपमान किया है। ये तो हुई राजनीति की बातें । मोदी जी के बयान के मायने चाहे जितने लगाये जा रहे हों,लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि आज भी देश में लाखों…

दुश्मनों पर रहम का अनर्गल प्रलाप क्यों .....!

कश्मीर को आतंकी पंजे से मुक्त करने में लगे सेना के जवानों की मुहिम रंग लाने लगी है। कश्मीर की जम्हूरियत को शांति का सकून दिलाने की ओर अग्रसर भारतीय फौज के जवानों के मनोबल तोड़ने की साजिश के तहत प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती का बयान आया है। उनका कहना है कि जिस प्रकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी रमजान के मौके पर सीजफायर का ऐलान किया था उसी तर्ज पर इस बार भी रमजान के मौके पर आतंकियों के खिलाफ चल रहे मुहिम को रोक दिया जाना चाहिए। ये बयान कहाँ तक उचित है कि जो गलती पिछली सरकारों की हैं, उसी गलती को पुनः दोहराना कितना सही है,बजाय सबक लेने के! जब बाजपेयी सरकार ने सीजफायर करने का ऐलान किया था ,ठीक उसी दरम्यां जमकर सीजफायर का उलंघन आतंकी गतिविधियों में इजाफा भी हुआ था। एक बार फिर वही गलती दोहराने के संबंध में महबूबा मुफ़्ती का बयान नाकाबिले तारीफ है। अब जब कि घाटी में सेना की आतंक़ियों के खिलाफ चल रही ताबड़तोड़ एनकॉउंटर की कार्यवाही दहशतगर्दी की कमर तोड़कर रख दिया है। घाटी में बुरहान वानी से लेकर अनेक कमांडर सेना व पुलिस की  कार्यवाही में मारे जा चुके हैं। लेकिन रमजान के पाक महीने से…