Skip to main content

बॉलीवुड के स्टार गीतकार और संवाद लेखक मनोज मुंतशिर सम्मान समारोह का आयोजन

अमेठी। शनिवार को राजर्षि रणञ्जय सिंह इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नाॅलाजी के कैम्पस मे बॉलीवुड के स्टार गीतकार और संवाद लेखक मनोज मुंतशिर के लिए एक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। छात्रों के बीच अपने को पाकर मनोज मुंतशिर अपने पुरानी यादों मे खो गए। अमेठी जनपद के गौरीगंज मे जन्मे मनोज शुक्ला आज कामयाबी के बुलंदियों पर हैं और फिल्म जगत मे अपने लिए अलग पहचान बना लिया है। ‘एक विलेन’ फिल्म के ‘गलियाँ तेरी गलियाँ’ गीत के लिए आईफा अवार्ड पाने वाले मुंतशिर जी पहले भी स्टार गिल्ड तथा इंडियन टेली अवार्ड जैसे कई अन्य अवार्ड पा चुके हैं। मनोज मुंतशिर ने बतौर गीतकार पहली फिल्म ‘दी ग्रेट इंडियन बटर फ्लाइ’ किया तथा बाहुबली जैसे सुपर हिट फिल्मो मे संवाद लेखन का कार्य किया। दर्जनो फिल्मों के गीत लिख चुके मुंतशिर जी ने अपने प्रशंशकों को पीके, कपूर एंड संस, वजीर, जय गंगाजल, राकी हैंडसम, रंग रसिया, बेबी, दो दूनी चार जैसी हिट तथा लोकप्रिय फिल्में दीं। अभी 12 अगस्त को रिलीज अक्षय कुमार की फिल्म ‘रुशतम’ का सुपर हिट गीत ‘तेरे संग यारा खुशरंग बहरा’ के बोल भी मुंतशिर जी के दिये हुये है। मुंतशिर जी के सम्मान समारोह के कार्यक्रम ने आरआरएसआईएमटी के छात्रों मे जोश भर दिया। राम कृपा सिंह ने ‘मै तुझसे प्यार नहीं करता’ तथा उमा गुप्ता ने ‘लग जा गले’ गीत से मुंतशिर जी का स्वागत किया। छात्रों की तरफ से आभेष मौर्य ने ‘मैनु काला चश्मा’ गाने पर एकल डांस तथा अक्षरा और ग्रुप ने ‘छम-छम’ गीत पर ग्रुप डांस प्रस्तुत किया। मुंतशिर जी के बचपन के जिगरी दोस्त और संस्थान के संयुक्त सचिव डॉ दीपक सिंह ने अपने स्कूल के पुराने दिन याद करते हुये बताया कि मनोज बचपन से ही हम लोगों को गीत और शायरी सुनाया करते थे और ये इनके सपनों कि ताकत ही है कि आज ये इतनी ऊंचाइए हासिल कर चुके हैं। उस वक्त कि बात करते हुये डॉ दीपक सिंह ने कहा कि जब मनोज बंबई के लिए ट्रेन पर बैठ रहे थे तो मैंने उन्हें एक पेन और ग्रीटिंग भेंट करते हुये उसी ग्रीटिंग पर लिखा कि ‘जाने कि जिद है तो जीत के आना’ और आज वो सारा जहां जीत के आए हैं। संस्थान के निदेशक कर्नल एस के गिगू ने कहा कि बड़े शहरों कि छमता समाप्त हो रही है, वास्तव मे प्रतिभा छोटे शहरों मे ही है। । अमेठी जैसे छोटे शहर से होकर भी आज मुंतशिर जी कामयाबी कि इतनी ऊंचाई पा चुके हैं जो दूसरे युवाओं के लिए प्रेरणा है। कार्यक्रम मे मुंतशिर जी ने छात्रों के सवालों का जवाब देते हुये कहा कि मेरी कलम मे स्याही अमेठी भरता है। बड़े शहर छोटे शहरों के हुनर से जिंदा हैं। मुंतशिर जी ने यह भी कहा कि सफल होने वालों को सफलता प्राप्ति के लिए कभी संदेह नहीं करना चाहिए। कार्यक्रम के पश्चात आयोजित प्रेस वार्ता मे मुंतशिर जी ने अपने आने वाली फिल्मों के बारे मे भी बताया। उन्होने कहा कि आगे आप एमएस धोनी, काबिल, बाहुबली भाग दो जैसी फिल्में देख पाएंगे। इस अवसर पर आरआरपीजी कालेज के प्राचार्य डॉ लाल साहब सिंह, रानी सुषमा देवी महाविद्यालय कि प्राचार्या डॉ पूनम सिंह, राजर्षि रणञ्जय सिंह कॉलेज ऑफ फार्मेसी के प्राचार्य अनूप मैटी, आशीष त्रिपाठी समेत संस्थान के सभी विभागाध्यक्ष, शिक्षक तथा स्टाफ उपस्थित रहे। कार्यक्रम का सफल संचालन उमा गुप्ता ने किया तथा सफल संयोजन प्रवेश श्रीवास्तव ने किया।

Comments

Popular posts from this blog

प्रिय पाठकों होली की शुभकामनाएं.....

राजनीति के मंच पर छन रहे सियासी पकौड़े

‌आजकल देश में समस्याओं को दरकिनार कर राजनीतिक दल पकौड़े के पीछे  चुके हैं। सोशल साइट पर इसे लेकर कोहराम मचा है,कि मोदी जी ने ये कह डाला देश का युवा बेरोजगार पकौड़ा बेचे, घोर अपमान । इतना ही नही विभिन्न दल के नेता पकौड़ा तलते नजर आ रहे हैं। अब बात करें कि ये बात किधर से आई!  विगत 19 जनवरी को देश के एक बड़े चैनल में इंटरव्यू के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बहुत से बेरोजगार लोगों को बैंक से ऋण दिया गया है , जिससे वे अपना छोटा मोटा व्यवसाय खोल सकें। उदाहरण के रूप में चाय व पकौड़े की दुकान खोलने की बात कही, जिससे अपना जीवन यापन कर सके। फिर क्या था विपक्षी राजनीतिक दलों के भी पकौड़े  छनने लगे। इसे तो मुद्दा ही बना दिया गया और युवाओं से जोड़ दिया । कांग्रेस हो या फिर समाजवादी पार्टी के नेता आजकल सड़कों पर उतर कर पकौड़ा तलने  में जुट गए हैं । इनका मानना है कि देश के बेरोजगारों को पकौड़े बनाने की सलाह देकर उनका मोदी जी ने अपमान किया है। ये तो हुई राजनीति की बातें । मोदी जी के बयान के मायने चाहे जितने लगाये जा रहे हों,लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि आज भी देश में लाखों…

दुश्मनों पर रहम का अनर्गल प्रलाप क्यों .....!

कश्मीर को आतंकी पंजे से मुक्त करने में लगे सेना के जवानों की मुहिम रंग लाने लगी है। कश्मीर की जम्हूरियत को शांति का सकून दिलाने की ओर अग्रसर भारतीय फौज के जवानों के मनोबल तोड़ने की साजिश के तहत प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती का बयान आया है। उनका कहना है कि जिस प्रकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी रमजान के मौके पर सीजफायर का ऐलान किया था उसी तर्ज पर इस बार भी रमजान के मौके पर आतंकियों के खिलाफ चल रहे मुहिम को रोक दिया जाना चाहिए। ये बयान कहाँ तक उचित है कि जो गलती पिछली सरकारों की हैं, उसी गलती को पुनः दोहराना कितना सही है,बजाय सबक लेने के! जब बाजपेयी सरकार ने सीजफायर करने का ऐलान किया था ,ठीक उसी दरम्यां जमकर सीजफायर का उलंघन आतंकी गतिविधियों में इजाफा भी हुआ था। एक बार फिर वही गलती दोहराने के संबंध में महबूबा मुफ़्ती का बयान नाकाबिले तारीफ है। अब जब कि घाटी में सेना की आतंक़ियों के खिलाफ चल रही ताबड़तोड़ एनकॉउंटर की कार्यवाही दहशतगर्दी की कमर तोड़कर रख दिया है। घाटी में बुरहान वानी से लेकर अनेक कमांडर सेना व पुलिस की  कार्यवाही में मारे जा चुके हैं। लेकिन रमजान के पाक महीने से…