Skip to main content

पंचायत चुनाव में एसी व देशी का जलवा कायम

नीरज सिंह अभी तो ट्रेलर है पिक्चर अभी बाकी है,ये फिल्मी डायलाग इस पंचायत चुनाव में सटीक बैठ रही है। एसी व देशी दोनों शबाब पर है। सच बात है त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की गर्माहट साफ दिखने लगी है। कोर्ट में पडी अपीलों पर निर्णयों का असर दिख जरूर जाता है लेकिन राजनीतिक तपन थमने का नाम नही ले रही हैं। पंचायत चुनाव के समर में बडे बडे सूरमा विभिन्न वार्डो से अपनी भाग्य अजमाने के लिए कूद पडे है। सुबह शाम मतदाताओं की चैखट चूमने के अलावा गांव की गलियों की धूल फांक रहे है। जहां एक ओर बीडीसी प्रत्याशी अपने मतदाता को रिझाने के लिए गांव गांव भटक रहे हैं और विकास कराने की कसमें खा रहे हैं। वहीं जिला पंचायत सदस्य का चुनाव इस चुनाव से थोडा इतर है। इस बार के चुनाव में प्रचार का तरीके में प्रत्याशियों ने कुछ बदलाव लाया है। जहां पहले की तरह देशी का जलवा कायम है वहीं इस बार एसी लग्जरी वाहनों का भी जलवा कायम हो चुका है। जिले के लगभग सभी वार्डों में प्रत्याशियों के साथ सफारी,इनोवा,क्वालिस, व स्कार्पियों जैसे लग्जरी वाहन काफिले में शामिल हैं। उनके साथ रंगरूट कार्यकत्र्ताओं का चलना चलन बन गया है। प्रत्याशी के उतरने से पहले ही रंगरूट जवान फिल्मी स्टाईल की तरह वाहनों के दरवाजे खोल कर आ जाते हैं। लगता है कि ये डीडीसी प्रत्याशी नहीं किसी फिल्म का सीन है। हां एक बात और दिखी कि प्रत्याशियों के काफिले में बिना नं0 की प्लेट के नये वाहन जरूर शामिल होंगे। जिसे प्रत्याशी अपना स्टेटस सैंम्बल मान रहा है। वहीं प्रशासन को कुछ नही दिख रहा है। गांवों की गरीब जनता इन लग्जरी काफिले को देख एक बार जरूर सहम जा रही है। चुनाव का आयोग की ओर से निर्धारित खर्च डेढ लाख है, लेकिन नामांकन से पहले ही एक एक प्रत्याशी के लाखों रूपये अभी ही बह गये हैं। एक वाहन के बजाय दर्जनों वाहन गांवों की ओर सफर कर रहे हैं। इस चुनाव में धनबल, व बाहुबल पूरे चरम पर दिख रहा है। देशी शराब जहां क्षेत्र पंचायत सदस्यों के लिए चुनाव जीतने का रास्ता माना जाता है। वहीं डीडीसी में बीसर और इंग्लिश के साथ एसी लगी जग्जरी गाडियां चुनाव में धमक कायम किए हुए हैं। जिला पंचायत सदस्य का चुनाव विधान सभा के चुनाव से कहीं हाईटेक दिख रहा है।बडे बडे धनवान बर्ग जो शहरों में कारोबार जमायें हुए हैं वो आजकल गांव में डेरा जमा चुके हैं और पंचायत चुनाव लडकर अपना जलवा समाज में दिखा रहे हैं। और धनबल व बाहुबल पर चुनाव को प्रभावित करने में कोई कोर कसर नही छोड रहे हैं। इस बार जिला पंचायत चुनाव में धनबल के बल पर एसी व देशी अपना जलवा बिखेरनें में कामयाब है। फिलहाल प्रशासन की नजरें इस ओर इनायत होती नजर नही आ रही है। वहीं प्रत्याशी भी अपनी धुन में प्रचार प्रसार में जुटा है।

Comments

Popular posts from this blog

प्रिय पाठकों होली की शुभकामनाएं.....

राजनीति के मंच पर छन रहे सियासी पकौड़े

‌आजकल देश में समस्याओं को दरकिनार कर राजनीतिक दल पकौड़े के पीछे  चुके हैं। सोशल साइट पर इसे लेकर कोहराम मचा है,कि मोदी जी ने ये कह डाला देश का युवा बेरोजगार पकौड़ा बेचे, घोर अपमान । इतना ही नही विभिन्न दल के नेता पकौड़ा तलते नजर आ रहे हैं। अब बात करें कि ये बात किधर से आई!  विगत 19 जनवरी को देश के एक बड़े चैनल में इंटरव्यू के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बहुत से बेरोजगार लोगों को बैंक से ऋण दिया गया है , जिससे वे अपना छोटा मोटा व्यवसाय खोल सकें। उदाहरण के रूप में चाय व पकौड़े की दुकान खोलने की बात कही, जिससे अपना जीवन यापन कर सके। फिर क्या था विपक्षी राजनीतिक दलों के भी पकौड़े  छनने लगे। इसे तो मुद्दा ही बना दिया गया और युवाओं से जोड़ दिया । कांग्रेस हो या फिर समाजवादी पार्टी के नेता आजकल सड़कों पर उतर कर पकौड़ा तलने  में जुट गए हैं । इनका मानना है कि देश के बेरोजगारों को पकौड़े बनाने की सलाह देकर उनका मोदी जी ने अपमान किया है। ये तो हुई राजनीति की बातें । मोदी जी के बयान के मायने चाहे जितने लगाये जा रहे हों,लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि आज भी देश में लाखों…

दुश्मनों पर रहम का अनर्गल प्रलाप क्यों .....!

कश्मीर को आतंकी पंजे से मुक्त करने में लगे सेना के जवानों की मुहिम रंग लाने लगी है। कश्मीर की जम्हूरियत को शांति का सकून दिलाने की ओर अग्रसर भारतीय फौज के जवानों के मनोबल तोड़ने की साजिश के तहत प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती का बयान आया है। उनका कहना है कि जिस प्रकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी रमजान के मौके पर सीजफायर का ऐलान किया था उसी तर्ज पर इस बार भी रमजान के मौके पर आतंकियों के खिलाफ चल रहे मुहिम को रोक दिया जाना चाहिए। ये बयान कहाँ तक उचित है कि जो गलती पिछली सरकारों की हैं, उसी गलती को पुनः दोहराना कितना सही है,बजाय सबक लेने के! जब बाजपेयी सरकार ने सीजफायर करने का ऐलान किया था ,ठीक उसी दरम्यां जमकर सीजफायर का उलंघन आतंकी गतिविधियों में इजाफा भी हुआ था। एक बार फिर वही गलती दोहराने के संबंध में महबूबा मुफ़्ती का बयान नाकाबिले तारीफ है। अब जब कि घाटी में सेना की आतंक़ियों के खिलाफ चल रही ताबड़तोड़ एनकॉउंटर की कार्यवाही दहशतगर्दी की कमर तोड़कर रख दिया है। घाटी में बुरहान वानी से लेकर अनेक कमांडर सेना व पुलिस की  कार्यवाही में मारे जा चुके हैं। लेकिन रमजान के पाक महीने से…