Skip to main content

लोकतांत्रिक विचारधारा का हास !

लोकतांत्रिक विचारधारा का हास ! स्ंासद की कार्यवाही शायद सांसदों के लिए राजनीति का अखाडा मात्र रह गया है। उसकी अहमियत क्या है, देश की प्रगति विकास के लिए कितनी अहम है, जनता के नजर में क्या मायने रखती है! इन सवालों का जबाब देने की आवश्यकता नही है। जनप्रतिनिधियों को इससे कोई लेना देना नही रह गया है। हां रह गया ये जरूर है कि देश हित के कार्य न होकर व्यक्तिगत अरोपों प्रत्यारोपों का केन्द्र बन रह गया है विश्व के सबसे बडे लोकतंत्र का संसद भवन। सैकडों साल के राजनीतिक अनुभव वाली कांग्रेस हो या जनसंघ वाली भाजपा या फिर समाजवादी और वामपंथी विचाराधारा वाले दल सभी अपने गौरवमयी इतिहास को भुलाकर सिर्फ कौवा पंचायत बन के रह गयी है हमारे देश का सबसे बडा अंग जहां से देश की दिशा व दशा तय होती है। देश में स्वास्थ्य,शिक्षा, गरीबी उन्मूलन, सुरक्षा, रोजगार जैसे ज्वलंत मुद्दों को छोड हमारे सांसद एक दूसरे को नीचा दिखाने का कार्य किया जा रहा है। आखिर जनता पूंछती है क्या हम इसी लिए अपना अमूल्य वोट देकर भेजा है कि सुषमा स्वराज क्यों ललित मोदी की मदद की जैसे बिना सिर पैर के मुद्दों पर बहस हो कि हमारी समस्याओं के निराकरण के लिए चुना है, ये अहम सवाल बन रहा है। देश की राजनीतिक दिशा किस ओर जा रही है ये सोचनीय विषय बन चुका है । हाल के दिनों में कुछ ऐसी बाते हो रही हैं जोकि देशहित में नही है । न ही इन बहस से देश का भला होने वाला है। सैकडों मौतों का गुनहगार याकूब मेमन को फांसी देने को लेकर तथाकथित सेकुलर लाबी व अपने को साफ सुधरा बताने वाले तथाकथित बिकाऊ चैनलों वाले देश की सबसे बडी अदालत व देश के सर्बोच्च नागरिक महामहिम राष्ट्रपति तक को कठघरे में नही चूके। फांसी के अंतिम समय तक दोषी को बचाने की मुहिम चलाकर विश्वपटल पर एक नया आयाम स्थापित किया गया। सुषमा ने ललित मोदी को बीमार पत्नी का इलाज के लिए विदेश जाने की अनुमति पर संसद ठप्प हो गई है।क्योंकि बहुत बडा गुनाह हुआ है। वही आतंकियों के साथ सहानुभूति दर्शाने वाले देश के सच्चे राष्ट्र भक्त साबित करने में जुटे हैं। उधर मध्यप्रदेश में व्यापम घोटाले ने नया रिकार्ड सीरियल मर्डर होनें से भर्ती व्यवस्था से लेकर साफ सुधरी छवि के माने जाने वाले मुख्यमंत्री शिवराज चैहान को भी कठघरे में आ गये हैं। अब जरा देश की सबसे बडे राज्य पर गौर फरमायें जहां समाजवादियों की सरकार है। यहां तो हद तब हो गई जब हजारों करोड के घोटाले में फंसे नौकर शाह यादव सिंह की जांच सीबीआई से कराने पर रोक लगाने के लिए सपा सरकार सुप्रीम कोर्ट पहुंच गये और न्यायिक समिति से कराने की मांग की। जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने इसे मानने से इनकार करते हुए सरकार को फटकार लगायी कि आपको खुश होना चाहिए कि इस मामले की जांच सीबीआई कर रही है। सरकार ओर से केस लड रहे वरिष्ठ वकील व कांग्रेसी दिग्गज कपिल सिब्बल संयोग से व्यापम केस के भी वकील हैं, उनसे माननीय कोर्ट ने चुटकी लेते हुए कहा कि आपको व्यापम केस में सीबीआई पर भरोसा था लेकिन इस मामले पर आप सीबीआई पर भरोसा नही है जता रहे हैं। ये हालत है कि इससे शर्मनाक बात क्या हो सकती है कि ऐसी क्या मजबूरी है कि एक घोटालेबाज को बचाने के लिए प्रदेश की सरकार ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड रहा है।

Comments

Popular posts from this blog

प्रिय पाठकों होली की शुभकामनाएं.....

राजनीति के मंच पर छन रहे सियासी पकौड़े

‌आजकल देश में समस्याओं को दरकिनार कर राजनीतिक दल पकौड़े के पीछे  चुके हैं। सोशल साइट पर इसे लेकर कोहराम मचा है,कि मोदी जी ने ये कह डाला देश का युवा बेरोजगार पकौड़ा बेचे, घोर अपमान । इतना ही नही विभिन्न दल के नेता पकौड़ा तलते नजर आ रहे हैं। अब बात करें कि ये बात किधर से आई!  विगत 19 जनवरी को देश के एक बड़े चैनल में इंटरव्यू के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बहुत से बेरोजगार लोगों को बैंक से ऋण दिया गया है , जिससे वे अपना छोटा मोटा व्यवसाय खोल सकें। उदाहरण के रूप में चाय व पकौड़े की दुकान खोलने की बात कही, जिससे अपना जीवन यापन कर सके। फिर क्या था विपक्षी राजनीतिक दलों के भी पकौड़े  छनने लगे। इसे तो मुद्दा ही बना दिया गया और युवाओं से जोड़ दिया । कांग्रेस हो या फिर समाजवादी पार्टी के नेता आजकल सड़कों पर उतर कर पकौड़ा तलने  में जुट गए हैं । इनका मानना है कि देश के बेरोजगारों को पकौड़े बनाने की सलाह देकर उनका मोदी जी ने अपमान किया है। ये तो हुई राजनीति की बातें । मोदी जी के बयान के मायने चाहे जितने लगाये जा रहे हों,लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि आज भी देश में लाखों…

दुश्मनों पर रहम का अनर्गल प्रलाप क्यों .....!

कश्मीर को आतंकी पंजे से मुक्त करने में लगे सेना के जवानों की मुहिम रंग लाने लगी है। कश्मीर की जम्हूरियत को शांति का सकून दिलाने की ओर अग्रसर भारतीय फौज के जवानों के मनोबल तोड़ने की साजिश के तहत प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती का बयान आया है। उनका कहना है कि जिस प्रकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी रमजान के मौके पर सीजफायर का ऐलान किया था उसी तर्ज पर इस बार भी रमजान के मौके पर आतंकियों के खिलाफ चल रहे मुहिम को रोक दिया जाना चाहिए। ये बयान कहाँ तक उचित है कि जो गलती पिछली सरकारों की हैं, उसी गलती को पुनः दोहराना कितना सही है,बजाय सबक लेने के! जब बाजपेयी सरकार ने सीजफायर करने का ऐलान किया था ,ठीक उसी दरम्यां जमकर सीजफायर का उलंघन आतंकी गतिविधियों में इजाफा भी हुआ था। एक बार फिर वही गलती दोहराने के संबंध में महबूबा मुफ़्ती का बयान नाकाबिले तारीफ है। अब जब कि घाटी में सेना की आतंक़ियों के खिलाफ चल रही ताबड़तोड़ एनकॉउंटर की कार्यवाही दहशतगर्दी की कमर तोड़कर रख दिया है। घाटी में बुरहान वानी से लेकर अनेक कमांडर सेना व पुलिस की  कार्यवाही में मारे जा चुके हैं। लेकिन रमजान के पाक महीने से…