Skip to main content

सिस्टम में नासूर बन चुका है भ्रष्टाचार

सिस्टम में नासूर बन चुका है भ्रष्टाचार दोस्तों ---- आयुक्त कार्यालय गया था एक कार्य के सिलसिले में वहां पहुंच कर पता किया कि इस कार्य से संबंधित बाबू जी कौन है।जिससे पूछा उस बाबू ने सामने पड़ी कुर्सी पर बैठे सज्जन की ओर संकेत करते हुए कहा कि वह ही है। मैं उनके पास गया तो पूछा कि क्या काम है;मैंनेअपना कार्य बताया तो बड़ी शालीनता का परिचय देते हुए कहा कि आपके सारे कागजात अभी नहीं आये हैं।उसे लेकर आएंगे तभी काम संभव है। मैंने उसी समय जिले के बाबू से पूछा कि आपने कहा था कि कागजात भेजे हैं लेकिन यहां तो नहीं है। तब बाबू ने जो जबाब दिया मैं सन्न रह गया ।जरा जबाब सुनिये ---भाई ऐसे काम नहीं होता है कुछ ले देकर बाबू को सेट करो नहीं तो घूमते रहोगे। ये हालत है हमारे सिस्टम की। मैं पत्रकार हूँ मैं समझता था कि कोई भ्रष्टाचारी ये बातें नहीं करने की हिम्मत नहीं करेगा। लेकिन आज ये दम्भ भी टूट गया। आखिर इस भोली भाली जनता कैसे इन भेडियों के रूप में बैठे भ्रष्टाचारियों को झेलते होंगे। कार्यपालिका के पूरे सिस्टम में वायरस की तरह फैल चुका है। और खुले आम जनता को जोंक की तरह चूस रहे हैं। नीचे से लेकर ऊपर तक अगर देश में किसी भी प्रकार विकास हुआ है तो वह है भ्रष्टाचार जिसकी वृद्धि दर का कोई मानक ही नहीं है।क्या हम इस सिस्टम को बनाने में उन भ्रष्टाचारियों की मदद नही किया है। जरूर हमने कहीं न कहीं कुछ न कुछ गलत किया है सिर्फ चन्द स्वार्थो के लिए जोकि अब यह रोग लाइलाज हो चला है और पूरे सिस्टम नासूर की तरह जम चुका है। भ्रश्टाचारियों के रग रग में हराम की कमाई बह रही है। कुछ इस प्रकार भी जिम्मेदार हैं कि लोगों का परीक्षण उनके बौद्धिक, शैक्षिक और चरित्रिक के मापदंड से न तौलकर उसके धन से सामाजिक स्टेटस मापने का काम होता है। इसी कारण लोग अपना कद बढाने के चक्कर में भ्रश्टाचार के गंदे तालाब में नहाने से गुरेज नही करता है। काली कमाई करने वालों के खिलाफ जबतक हम लामबंद होकर विरोध नही करेंगे तब तक ये बंद नही होंगे। जय हो भ्रष्टाचार की -------

Comments

Popular posts from this blog

प्रिय पाठकों होली की शुभकामनाएं.....

राजनीति के मंच पर छन रहे सियासी पकौड़े

‌आजकल देश में समस्याओं को दरकिनार कर राजनीतिक दल पकौड़े के पीछे  चुके हैं। सोशल साइट पर इसे लेकर कोहराम मचा है,कि मोदी जी ने ये कह डाला देश का युवा बेरोजगार पकौड़ा बेचे, घोर अपमान । इतना ही नही विभिन्न दल के नेता पकौड़ा तलते नजर आ रहे हैं। अब बात करें कि ये बात किधर से आई!  विगत 19 जनवरी को देश के एक बड़े चैनल में इंटरव्यू के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बहुत से बेरोजगार लोगों को बैंक से ऋण दिया गया है , जिससे वे अपना छोटा मोटा व्यवसाय खोल सकें। उदाहरण के रूप में चाय व पकौड़े की दुकान खोलने की बात कही, जिससे अपना जीवन यापन कर सके। फिर क्या था विपक्षी राजनीतिक दलों के भी पकौड़े  छनने लगे। इसे तो मुद्दा ही बना दिया गया और युवाओं से जोड़ दिया । कांग्रेस हो या फिर समाजवादी पार्टी के नेता आजकल सड़कों पर उतर कर पकौड़ा तलने  में जुट गए हैं । इनका मानना है कि देश के बेरोजगारों को पकौड़े बनाने की सलाह देकर उनका मोदी जी ने अपमान किया है। ये तो हुई राजनीति की बातें । मोदी जी के बयान के मायने चाहे जितने लगाये जा रहे हों,लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि आज भी देश में लाखों…

दुश्मनों पर रहम का अनर्गल प्रलाप क्यों .....!

कश्मीर को आतंकी पंजे से मुक्त करने में लगे सेना के जवानों की मुहिम रंग लाने लगी है। कश्मीर की जम्हूरियत को शांति का सकून दिलाने की ओर अग्रसर भारतीय फौज के जवानों के मनोबल तोड़ने की साजिश के तहत प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती का बयान आया है। उनका कहना है कि जिस प्रकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी रमजान के मौके पर सीजफायर का ऐलान किया था उसी तर्ज पर इस बार भी रमजान के मौके पर आतंकियों के खिलाफ चल रहे मुहिम को रोक दिया जाना चाहिए। ये बयान कहाँ तक उचित है कि जो गलती पिछली सरकारों की हैं, उसी गलती को पुनः दोहराना कितना सही है,बजाय सबक लेने के! जब बाजपेयी सरकार ने सीजफायर करने का ऐलान किया था ,ठीक उसी दरम्यां जमकर सीजफायर का उलंघन आतंकी गतिविधियों में इजाफा भी हुआ था। एक बार फिर वही गलती दोहराने के संबंध में महबूबा मुफ़्ती का बयान नाकाबिले तारीफ है। अब जब कि घाटी में सेना की आतंक़ियों के खिलाफ चल रही ताबड़तोड़ एनकॉउंटर की कार्यवाही दहशतगर्दी की कमर तोड़कर रख दिया है। घाटी में बुरहान वानी से लेकर अनेक कमांडर सेना व पुलिस की  कार्यवाही में मारे जा चुके हैं। लेकिन रमजान के पाक महीने से…